Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2023 · 1 min read

भारत ने रचा इतिहास।

भारत ने रचा इतिहास।

ऐसा यान उड़ाया भारत
देख चाँद पर आया भारत।
सफल हुए सब यत्न हमारे
चंदा -मामा कितने प्यारे।
a m prahari

215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
Amit Pandey
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
// जनक छन्द //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सब कुछ पा लेने की इच्छा ही तृष्णा है और कृपापात्र प्राणी ईश्
सब कुछ पा लेने की इच्छा ही तृष्णा है और कृपापात्र प्राणी ईश्
Sanjay ' शून्य'
4. गुलिस्तान
4. गुलिस्तान
Rajeev Dutta
हम भी अगर बच्चे होते
हम भी अगर बच्चे होते
नूरफातिमा खातून नूरी
साक्षात्कार- मनीषा मंजरी- नि:शब्द (उपन्यास)
साक्षात्कार- मनीषा मंजरी- नि:शब्द (उपन्यास)
Sahityapedia
जालिम
जालिम
Satish Srijan
सजल
सजल
Rashmi Sanjay
उन पुरानी किताबों में
उन पुरानी किताबों में
Otteri Selvakumar
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
Ajay Kumar Vimal
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
सत्य कुमार प्रेमी
2973.*पूर्णिका*
2973.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सोचता हूँ के एक ही ख्वाईश
सोचता हूँ के एक ही ख्वाईश
'अशांत' शेखर
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हें नमन है अमर शहीदों
तुम्हें नमन है अमर शहीदों
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
खूबसूरत तोहफा।
खूबसूरत तोहफा।
Taj Mohammad
मार मुदई के रे... 2
मार मुदई के रे... 2
जय लगन कुमार हैप्पी
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
रुपेश कुमार
#गीत
#गीत
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
Santosh Soni
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
लक्ष्मी सिंह
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
Subah ki hva suru hui,
Subah ki hva suru hui,
Stuti tiwari
हिल जाई इंद्रासन
हिल जाई इंद्रासन
Shekhar Chandra Mitra
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
Loading...