Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 1 min read

भारत के बदनामी

अब छोड़ दअ सरकार के
गुलामी, ऐ साथी
दुनिया में होता भारत के
बदनामी,ऐ साथी…
(१)
रोअ ताटे आतमा
आज भगतसिंह के
देखके क़ौमी इज्ज़त के
नीलामी, ऐ साथी…
(२)
गूंगा अवाम के
आवाज़ दीहल छोड़के
रोज ठोकेलअ दरबार में
सलामी, ऐ साथी
दुनिया में होता भारत के
बदनामी,ऐ साथी…
(३)
साजा के डर या
ईनाम के लालच में
तू बन गइलअ एकदम
हरामी, ऐ साथी
दुनिया में
होता भारत के
बदनामी, ऐ साथी…
(४)
ले डूबी देख लीहअ
अपना समाज के
पढल-लिखल लोग के
नादानी, ऐ साथी
दुनिया में होता भारत के
बदनामी, ऐ साथी…
(५)
यूरोप देखनी
हम देखनी अमीरका
दोसर नाही तहार कहीं
सानी, ऐ साथी
दुनिया में होता भारत के
बदनामी, ऐ साथी…
#geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#मीडिया #नौजवान #पत्रकार
#लेखक #बुद्धिजीवी #अदालत
#जज #पुलिस #अफसर #फौज
#शायर #कवि #गीतकार #फनकार
#कलाकार #Bollywood #विद्रोही
#lyrics #lyricist #bhojpuri

Language: Bhojpuri
Tag: गीत
160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अयोध्या के कण-कण में राम*
*अयोध्या के कण-कण में राम*
Vandna Thakur
#मायका #
#मायका #
rubichetanshukla 781
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
अपने दिल से
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
"ये कविता ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
बेशक हुआ इस हुस्न पर दीदार आपका।
Phool gufran
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
//?
//?
*Author प्रणय प्रभात*
अस्तित्व की तलाश में
अस्तित्व की तलाश में
पूर्वार्थ
*शंकर जी (बाल कविता)*
*शंकर जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
प्रकृति के स्वरूप
प्रकृति के स्वरूप
डॉ० रोहित कौशिक
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Neeraj Agarwal
अपने अपने युद्ध।
अपने अपने युद्ध।
Lokesh Singh
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
3257.*पूर्णिका*
3257.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पृथ्वी दिवस पर
पृथ्वी दिवस पर
Mohan Pandey
एक ही भूल
एक ही भूल
Mukesh Kumar Sonkar
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
" माँ का आँचल "
DESH RAJ
लग रहा है बिछा है सूरज... यूँ
लग रहा है बिछा है सूरज... यूँ
Shweta Soni
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
Shashi kala vyas
संयम
संयम
RAKESH RAKESH
आदिपुरुष समीक्षा
आदिपुरुष समीक्षा
Dr.Archannaa Mishraa
ख़ुदा बताया करती थी
ख़ुदा बताया करती थी
Madhuyanka Raj
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
Bidyadhar Mantry
Loading...