Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2017 · 1 min read

भारत की नारी

अब मत सह
ओ भारत की नारी
क्यूँ सहती चुपचाप
तू तकलीफें सारी
है आखिर किस वेद, ग्रंथ में लिखा
कि पुरुष हैं तुझपर
हाथ उठाने के अधिकारी;
आखिर कब तक
तू ये जुल्म सहेगी
समाज के झूठे
आडम्बरों से डरेगी;
अब बस भी कर
तू चुपचाप ये सहना
अब खुद की रक्षा
तू स्वयं करेगी;
चल उठ खड़ी हो
अब आवाज उठा तू
अपने आत्मसम्मान को
जाग्रत कर तू
क्योंकि तू भी है
पुरुषों पर भारी
अब मत सह
ओ भारत की नारी ||

प्रतीक्षा साहू”पूनम”

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 662 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िंदगी बन गई है सूखा शज़र।
ज़िंदगी बन गई है सूखा शज़र।
Surinder blackpen
आजाद लब
आजाद लब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
सम्पूर्ण सनातन
सम्पूर्ण सनातन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
वादा तो किया था
वादा तो किया था
Ranjana Verma
कबीरा यह मूर्दों का गांव
कबीरा यह मूर्दों का गांव
Shekhar Chandra Mitra
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
Pooja Singh
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*खाओ गरम कचौड़ियॉं, आओ यदि बृजघाट (कुंडलिया)*
*खाओ गरम कचौड़ियॉं, आओ यदि बृजघाट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपनी-अपनी दिवाली
अपनी-अपनी दिवाली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ये दुनिया है आपकी,
ये दुनिया है आपकी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तू मेरा मैं  तेरी हो जाऊं
तू मेरा मैं तेरी हो जाऊं
Ananya Sahu
जिंदगी मुस्कुराती थी कभी, दरख़्तों की निगेहबानी में, और थाम लेता था वो हाथ मेरा, हर एक परेशानी में।
जिंदगी मुस्कुराती थी कभी, दरख़्तों की निगेहबानी में, और थाम लेता था वो हाथ मेरा, हर एक परेशानी में।
Manisha Manjari
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
शिक्षक
शिक्षक
Mukesh Kumar Sonkar
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
Neelam Sharma
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
Shashi kala vyas
Be with someone who motivates you to do better in life becau
Be with someone who motivates you to do better in life becau
पूर्वार्थ
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
तुम्हारी आँखें...।
तुम्हारी आँखें...।
Awadhesh Kumar Singh
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
dks.lhp
Loading...