Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2017 · 1 min read

भारत का नव वर्ष

चैत्र शुक्ल की प्रतिपदा,करे सतत उत्कर्ष !
आता है इस रोज ही,भारत का नव वर्ष !!

नये वर्ष का देश में,करें खूब सत्कार !
दरवाजे पर बांधिये,..मंगल बंदनवार !!

दरवाजे पर टांकिए,..गुड़ी और इक आज !
नये साल का कीजिये, मन भावन आगाज !!

रहो भले इस देश में, .चाहे रहो विदेश !
भारत के नववर्ष का, स्वागत करें रमेश !!
रमेश शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 565 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिश्तों की बंदिशों में।
रिश्तों की बंदिशों में।
Taj Mohammad
बात बनती हो जहाँ,  बात बनाए रखिए ।
बात बनती हो जहाँ, बात बनाए रखिए ।
Rajesh Tiwari
बाबा साहब आम्बेडकर
बाबा साहब आम्बेडकर
Aditya Prakash
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
खोया है हरेक इंसान
खोया है हरेक इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खिचड़ी
खिचड़ी
Satish Srijan
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
Neelam Sharma
ताजन हजार
ताजन हजार
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
साए
साए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ज़रूरी तो नहीं
ज़रूरी तो नहीं
Surinder blackpen
*आओ चुपके से प्रभो, दो ऐसी सौगात (कुंडलिया)*
*आओ चुपके से प्रभो, दो ऐसी सौगात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
If.. I Will Become Careless,
If.. I Will Become Careless,
Ravi Betulwala
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
Sakshi Tripathi
"बेटा-बेटी"
पंकज कुमार कर्ण
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
भूल चुके हैं
भूल चुके हैं
Neeraj Agarwal
"सपनों का सफर"
Pushpraj Anant
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
Manisha Manjari
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
Shweta Soni
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
■ पूछती है दुनिया ..!!
■ पूछती है दुनिया ..!!
*Author प्रणय प्रभात*
दिये को रोशननाने में रात लग गई
दिये को रोशननाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
నా గ్రామం
నా గ్రామం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
23/70.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/70.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
Loading...