Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 2 min read

भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन

भाव, ताल औ”राग से, निकला भारत देश।
आज बना है इंडिया, बदल गया परिवेश।।

देवों ने जिसको रचा, अपना भारत धाम।
बदल दिया अंग्रेज ने, रखा इंडिया नाम।।

भारत भावों से भरा, अर्थपूर्ण है नाम।
अर्थहीन है इंडिया, अर्थहीन सब काम।।

स्वर्ण विहग भू भारती, पत्थर में भगवान।
जब कहलाया इंडिया, भूल गया पहचान।।

भारत में भाषा कई, दे हिन्दी रस घोल ।
अब कहता है इंडिया, अंग्रेजी बड़बोल।।

भारत में चारों तरफ, पेड़, खेत-खलिहान।
भरा प्रदूषण इंडिया, त्राहि-त्राहि इंसान।।

भारत में संगीत लय, ताल रिदम हर साँस।
पाॅप-साॅग पर इंडिया, करे आइटम डांस।।

भारत बगिया में भरा, कटहल जामुन आम।
मैग्गी, पिज्जा इंडिया, बेचे ऊँचे दाम।।

भारत में पंडाल है, मंडप, मंदिर, चाॅल।
पब-डिस्को है इंडिया, माॅल सिनेमा हाॅल।।

भारत का प्राकृतिक छवि, देव रूप प्रत्यक्ष।
मगर आज यह इंडिया, काट दिया सब वृक्ष।।

भारत में सद्भावना, मिले सखा सी हस्त।
चकाचौंध में इंडिया, अपने में सब मस्त।।

करुणाकर, करुणामयी, भारत हृदय विशाल।
भौतिक सुख में इंडिया, रिश्ते किये हलाल।।

भारत में जीवन भरा, पंच तत्व से प्रीत।
हृदय शून्य है इंडिया, आडंबर है मीत।।

भारत माँ की गोद में, सुख की शीतल छाॅव।
बसा शहर में इंडिया, छोड़ा अपना गाॅव।।

भारत कण-कण में बसा, कितने रीति – रिवाज।
बिखर रहा है इंडिया, घायल हुआ समाज।।

हँसी–ठहाके, मसखरी, भारत का सौगात।
सिसक रहा है इंडिया, रही नहीं वो बात।।

भारत श्री मदभागवत, नित रामायण पाठ।
धर्म-कर्म में इंडिया, देखे अपना ठाठ।।

भारत में मिलजुल रहे, दादा-दादी साथ।
मकड़ जाल में इंडिया, कौन उबारे नाथ।।

हरा-भरा मधुवन जहाँ, भारत रूप हसीन।
इंडिया में दिवाल पर, पर्दे हैं रंगीन।।

भारत में संतोष है, परंपरा सुख चैन।
बदहवास सा इंडिया, भाग रहा दिन-रैन।।

भारत निश्छल भाव से, करता आदर सत्कार।
स्वार्थ भरा यह इंडिया, स्वार्थ पूर्ण व्यवहार।।

भारत में ग्रामीण का, सीधा सरल स्वभाव।
अवसादित है इंडिया, छल झूठ का प्रभाव।।

भारत में हल जोतते, कर्मठ-बली किसान।
टावर, चिमनी इंडिया, गगन- चुुम्बी मकान।।

भारत गावों में बसा, जीवन का सब सार।
फैशन वाला इंडिया, माया का संसार।।

साड़ी, चोली, चुनरिया, भारत का श्रृंगार।
निम्न वस्त्र में इंडिया, भूले सब संस्कार।।

भारत में माता-पिता, बच्चों के भगवान ।
वृद्धा आश्रम भेजना,कहे इंडिया शान।।

क्या खोया क्या पा लिया, भारत करो विचार।
बना दिया क्यों इंडिया, कटुता का बाजार।।

-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
Shivkumar Bilagrami
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
धरती पर जन्म लेने वाला हर एक इंसान मजदूर है
प्रेमदास वसु सुरेखा
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
Dr fauzia Naseem shad
सनातन संस्कृति
सनातन संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
"आशिकी"
Dr. Kishan tandon kranti
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
जिंदगी देने वाली माँ
जिंदगी देने वाली माँ
shabina. Naaz
कहानी इश्क़ की
कहानी इश्क़ की
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बाल कविता: भालू की सगाई
बाल कविता: भालू की सगाई
Rajesh Kumar Arjun
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
gurudeenverma198
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
शेखर सिंह
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
*लाल हैं कुछ हरी, सावनी चूड़ियॉं (हिंदी गजल)*
*लाल हैं कुछ हरी, सावनी चूड़ियॉं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तपन ने सबको छुआ है / गर्मी का नवगीत
तपन ने सबको छुआ है / गर्मी का नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अरे सुन तो तेरे हर सवाल का जवाब हूॅ॑ मैं
अरे सुन तो तेरे हर सवाल का जवाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
समय देकर तो देखो
समय देकर तो देखो
Shriyansh Gupta
चौखट पर जलता दिया और यामिनी, अपलक निहार रहे हैं
चौखट पर जलता दिया और यामिनी, अपलक निहार रहे हैं
पूर्वार्थ
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
नेताम आर सी
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
Ranjeet kumar patre
लघुकथा - घर का उजाला
लघुकथा - घर का उजाला
अशोक कुमार ढोरिया
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
कवि दीपक बवेजा
आओ चलें नर्मदा तीरे
आओ चलें नर्मदा तीरे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
3044.*पूर्णिका*
3044.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौसम तुझको देखते ,
मौसम तुझको देखते ,
sushil sarna
निराकार परब्रह्म
निराकार परब्रह्म
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
कवि रमेशराज
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
Dr Tabassum Jahan
Loading...