Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 2, 2017 · 1 min read

भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है

भारत पर स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
विश्वबंधु-दीपक बन जलने वाला सुंदर -प्यारा है

लक्ष्मीबाई की कृपाण ने देख फिरंगी को मारा
मंगल पांडे,भगत सिंह औ राजगुरू ले ललकारा
तात्याटोपे, खुदीराम के खूँ का मिला सहारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है

वीर चंद्रशेखर की गर्जन, हिला रही शासन- डेरा
मोड सके ना मेरी बाहों को बैरी है जो मेरा
देश हेतु अर्पित कर निज तन सबका बना दुलारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है

हृदय हमारा भाव है लेकिन, दिव्य सजगता मेरा धन
मातृधरणि पर सदा निछावर किया युवाओं ने निज तन
दिव्य प्रेम की मूरत हम, पर यम भी हम से हारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है

ऋषि-मुनि मेरे दिव्य प्रेम के वृहत् रुप को जान गए
मोह त्यागकर जागा अर्जुन, सजग ज्ञान पहचान गए
गीता रुपी ज्ञान सुधा दे ,कृष्ण आँख का तारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
विश्वबंधु-दीपक बन जलने बाला सुंदर-प्यारा है
————————

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता
-“जागा हिंदुस्तान चाहिए” कृति का गीत।
– जागा हिंदुस्तान चाहिए कृति प्रकाशित होने का वर्ष -2013
-प्रकाशक -जे एम डी पब्लिकेशन ,नई दिल्ली
02-05-2017

●उक्त रचना को “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।
●”जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण वर्ष,2020में New cover and new ISBN के साथ साहित्यपीडिया पब्लिसिंग से प्रकाशित है ।
●”जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

2 Likes · 1 Comment · 499 Views
You may also like:
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
हर सिम्त यहाँ...
अश्क चिरैयाकोटी
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
✍️✍️असर✍️✍️
"अशांत" शेखर
पापा
Anamika Singh
सुबह
AMRESH KUMAR VERMA
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
In my Life.
Taj Mohammad
वो आवाज
Mahendra Rai
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
शहीद की आत्मा
Anamika Singh
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️कधी कधी✍️
"अशांत" शेखर
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
Ravi Prakash
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
अंदाज़।
Taj Mohammad
Loading...