Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

*भाता है सब को सदा ,पर्वत का हिमपात (कुंडलिया)*

भाता है सब को सदा ,पर्वत का हिमपात (कुंडलिया)

भाता है सब को सदा ,पर्वत का हिमपात
नभ से गिरता हिम लगे ,जैसे हो बरसात
जैसे हो बरसात , अजूबा जादू लगता
देखा पहली बार ,दृश्य हो जैसे ठगता
कहते रवि कविराय ,भाग्य से ही दिख पाता
जब होता हिमपात ,हृदय को सबके भाता

हिम= बर्फ
हिमपात = पहाड़ों पर आसमान से बर्फ का
गिरना

रचयिता= रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
सुबह का भूला
सुबह का भूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विषय -परिवार
विषय -परिवार
Nanki Patre
ज़िंदगी को दर्द
ज़िंदगी को दर्द
Dr fauzia Naseem shad
एक खत जिंदगी के नाम
एक खत जिंदगी के नाम
पूर्वार्थ
नया साल
नया साल
umesh mehra
मैं क्या लिखूँ
मैं क्या लिखूँ
Aman Sinha
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
पहले आप
पहले आप
Shivkumar Bilagrami
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
बाल कहानी- डर
बाल कहानी- डर
SHAMA PARVEEN
23/217. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/217. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिता का गीत
पिता का गीत
Suryakant Dwivedi
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
कृष्णकांत गुर्जर
चराग़ों की सभी ताक़त अँधेरा जानता है
चराग़ों की सभी ताक़त अँधेरा जानता है
अंसार एटवी
दिव्य ज्ञान~
दिव्य ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
हुआ चैत्र आरंभ , सुगंधित कपड़े पहने (कुंडलिया)
हुआ चैत्र आरंभ , सुगंधित कपड़े पहने (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
टॉम एंड जेरी
टॉम एंड जेरी
Vedha Singh
.
.
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
राम लला की हो गई,
राम लला की हो गई,
sushil sarna
तुम जोर थे
तुम जोर थे
Ranjana Verma
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
कभी किसी को इतनी अहमियत ना दो।
कभी किसी को इतनी अहमियत ना दो।
Annu Gurjar
ॐ
Prakash Chandra
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"कौन हूँ मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
Loading...