Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2024 · 1 min read

भाग्य – कर्म

भाग भाग के थक गये,भाग्य से ना भाग सके ।
जो भाग भाग्य मे मिले,भाग के ना कोई तज सके।।

भाग्य अपना आपसे होये,भाग्य कर्म से लिखा होये।
कर्म जो अपना भाग्य बने,भाग्य विधाता सदकर्म बने।।

हाथ माथ मे भाग्य लिखा होय,पढ़ पढ़ के जो ज्ञात होये।
कहे करे कर्म धर्म पूर्ण,भाग्य भरोसे जीवन ना चले।।

भाग्य मिला तो अप मिले,जैसे सुसंगत सज्जन को मिले l
संगत से सज्जन है चमके,तैसे कर्म से भाग्य है दमके।।

भाग्य से ना कम भाग्य से ना ज्यादा,कौन हुआ भाग्य विधाता।
भाग्य ना जाने किसी का भाग्य,भाग्य ना मिटे अपने भाग्य।।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश।

1 Like · 1 Comment · 99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
चांद से सवाल
चांद से सवाल
Nanki Patre
चंद्रयान-3
चंद्रयान-3
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
■ लघुकथा / सौदेबाज़ी
■ लघुकथा / सौदेबाज़ी
*Author प्रणय प्रभात*
अहसास
अहसास
Sandeep Pande
*आत्महत्या*
*आत्महत्या*
आकांक्षा राय
*कभी अच्छाई पाओगे, मिलेगी कुछ बुराई भी 【मुक्तक 】*
*कभी अच्छाई पाओगे, मिलेगी कुछ बुराई भी 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
तेरी यादों में लिखी कविताएं, सायरियां कितनी
तेरी यादों में लिखी कविताएं, सायरियां कितनी
Amit Pandey
"बीज"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
राम है आये!
राम है आये!
Bodhisatva kastooriya
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
Santosh Soni
* कुछ लोग *
* कुछ लोग *
surenderpal vaidya
परिवार के लिए
परिवार के लिए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दीपावली
दीपावली
डॉ. शिव लहरी
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Don't Give Up..
Don't Give Up..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
खेल संग सगवारी पिचकारी
खेल संग सगवारी पिचकारी
Ranjeet kumar patre
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बचपन,
बचपन, "बूढ़ा " हो गया था,
Nitesh Kumar Srivastava
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
Shweta Soni
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
कवि दीपक बवेजा
इस धरा पर अगर कोई चीज आपको रुचिकर नहीं लगता है,तो इसका सीधा
इस धरा पर अगर कोई चीज आपको रुचिकर नहीं लगता है,तो इसका सीधा
Paras Nath Jha
Loading...