Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2023 · 1 min read

भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज

भाई-बहिन का त्यौहार है भाईदूज।
भाई- बहिन का प्यार है भाईदूज।।
नहीं भूल जाना मेरे भाई यह त्यौहार।
भाई- बहिन का सम्मान है भाईदूज।।
भाई- बहिन का त्यौहार —————–।।

नहीं भूल जाना भाई, अपनी बहिन को।
देना सम्मान, करना प्यार बहिन को।।
जन्मों जन्मों का रिश्ता है भाई-बहिन का।
भाई- बहिन का एक गौरव है भाईदूज।।
भाई- बहिन का त्यौहार——————–।।

मांगें बहिन दुहायें, भाई के लिए।
खुशियां बांटें बहिन, भाई के लिए।।
रहे आबाद खुश सदा मेरा भाई।
ऐसी ही प्रार्थना है सच भाईदूज।।
भाई- बहिन का त्यौहार—————–।।

चाहता है भाई भी बहिन को खुश सदा।
सब सपनें हो साकार बहिन के घर सदा।।
भाई के लिए इज्जत- जान है बहिन।
भाई के लिए एक वचन है भाईदूज।।
भाई-बहिन का त्यौहार—————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
264 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जरूरत के वक्त जब अपने के वक्त और अपने की जरूरत हो उस वक्त वो
जरूरत के वक्त जब अपने के वक्त और अपने की जरूरत हो उस वक्त वो
पूर्वार्थ
*
*"रक्षाबन्धन"* *"काँच की चूड़ियाँ"*
Radhakishan R. Mundhra
वीर-जवान
वीर-जवान
लक्ष्मी सिंह
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
sushil sarna
खड़कते पात की आवाज़ को झंकार कहती है।
खड़कते पात की आवाज़ को झंकार कहती है।
*प्रणय प्रभात*
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वृद्धाश्रम इस समस्या का
वृद्धाश्रम इस समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
तू ठहर चांद हम आते हैं
तू ठहर चांद हम आते हैं
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
माँ तो आखिर माँ है
माँ तो आखिर माँ है
Dr. Kishan tandon kranti
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
गुमनाम 'बाबा'
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
23/131.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/131.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
sushil yadav
जिंदगी झंड है,
जिंदगी झंड है,
कार्तिक नितिन शर्मा
इंतज़ार
इंतज़ार
Dipak Kumar "Girja"
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
आर.एस. 'प्रीतम'
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
gurudeenverma198
मां
मां
Slok maurya "umang"
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
* करते कपट फरेब *
* करते कपट फरेब *
surenderpal vaidya
Life
Life
C.K. Soni
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
कवि दीपक बवेजा
उदास हूं मैं आज...?
उदास हूं मैं आज...?
Sonit Parjapati
*हेमा मालिनी (कुंडलिया)*
*हेमा मालिनी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
सत्य कुमार प्रेमी
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
उम्रभर
उम्रभर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी के तजुर्बे खा गए बचपन मेरा,
ज़िंदगी के तजुर्बे खा गए बचपन मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पास बुलाता सन्नाटा
पास बुलाता सन्नाटा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...