Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Nov 7, 2016 · 1 min read

भाई दूज

लेकर थाली खड़ी अकेली,
मुझको गीत सुना जा ना l
भाई-बहिन का प्यार अनोखा,
फिर जग को बतला जा ना l

सात समुन्दर पार से भाई,
जब न घर आ पाया तो l
नभ के चन्दा नीचे आकर,
तू ही दूज करा जा ना l

(आप सभी को भाई दूज की हार्दिक शुभकामना)

– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद (उ. प्र.)
मो. 8941912642

184 Views
You may also like:
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
पिता
Dr.Priya Soni Khare
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
पल
sangeeta beniwal
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
# पिता ...
Chinta netam " मन "
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
Loading...