Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2023 · 1 min read

अजनवी

भले अजनवी थे कभी,
पर परिणय का विधान।
पति पत्नी संयोग यूं,
दो देही एक प्रान।

एक एक मिलकर दो बने,
यही गणित की रीत।
पति पत्नी दो हैं मगर,
एक होते कर प्रीत।

पत्नी है वरदान सी,
सब नर सुनो कर कान।
दारा जीवन डोर सी,
न करो कभी अपमान।

नारी बूढ़ी तब तक न,
उम्र हो चाहे कितनी।
पुरुष भी न कभी बूढ़ है,
जब तक जीवित पत्नी।

हंस जोड़े में कोई भी,
यदि कर गया पयान।
चहे उम्र हो तीस की,
निश्चय बूढ़ा जान।

वदन वृद्ध होना शुरू,
जब हो जाये वैधव्य।
हर तरफ तंगी सूनपन,
भले हो कितना द्रव्य।

सभी रहे सुख प्रेम से,
जीवन के दिन थोड़े।
प्रभु सब पर कृपा करें,
न बिछड़े कोई जोड़े।

सतीश सृजन

Language: Hindi
302 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शक
शक
Paras Nath Jha
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे दिल में कब आएं हम
तेरे दिल में कब आएं हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
कवि रमेशराज
दोस्ती
दोस्ती
Rajni kapoor
सवाल जिंदगी के
सवाल जिंदगी के
Dr. Rajeev Jain
कांतिपति का चुनाव-रथ
कांतिपति का चुनाव-रथ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
Keshav kishor Kumar
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
Ritu Verma
राम
राम
umesh mehra
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh
माँ
माँ
Vijay kumar Pandey
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
महात्मा गांधी
महात्मा गांधी
Rajesh
तू भी धक्के खा, हे मुसाफिर ! ,
तू भी धक्के खा, हे मुसाफिर ! ,
Buddha Prakash
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
Jp yathesht
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
Ashok deep
!! यह तो सर गद्दारी है !!
!! यह तो सर गद्दारी है !!
Chunnu Lal Gupta
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*गंगा उतरीं स्वर्ग से,भागीरथ की आस (कुंडलिया)*
*गंगा उतरीं स्वर्ग से,भागीरथ की आस (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
Ritu Asooja
2345.पूर्णिका
2345.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भाव जिसमें मेरे वो ग़ज़ल आप हैं
भाव जिसमें मेरे वो ग़ज़ल आप हैं
Dr Archana Gupta
Loading...