Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Apr 2023 · 1 min read

*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*

भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)
🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️
1
भरत चले प्रभु राम मनाने।
चित्रकूट से घर लौटाने।।
मुख पर दुख की छाया छाई।
ग्लानि भावना मन में आई।।
2
मैं अपराधी सुत-कैकेई।
नौका कुटिल नीति की खेई।।
मेरे कारण राम अभागे।
पीछे लखन-सिया प्रभु आगे।।
3
शपथ राम को लेकर आऊॅं।
तब यह जीवन सफल कहाऊॅं।।
गुह निषाद ने भरत निहारा ।
भरी भक्ति प्रभु पावन धारा ।।
4
चले भरत बिन राज सहारे।
त्याग छत्र घोड़े रथ सारे।।
भरद्वाज ने घोर सराहा ।
कहा धन्य तुम राज न चाहा ।।
5
संशयग्रस्त लक्ष्मण भ्राता।
कहा न सेना-नाद सुहाता ।।
कहा राम ने भरत न लोभी।
मिले राजपद चाहे जो भी ।।
6
भले विश्व का पद मिल जाता ।
नहीं भरत को छू मद पाता ।।
भरत प्राण से ज्यादा प्यारे।
गुण वैराग्य-ज्ञान के सारे।।
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

400 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
Keshav kishor Kumar
"पृथ्वी"
Dr. Kishan tandon kranti
Sometimes…
Sometimes…
पूर्वार्थ
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
Shakil Alam
अधूरी मुलाकात
अधूरी मुलाकात
Neeraj Agarwal
मन नहीं होता
मन नहीं होता
Surinder blackpen
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
Neelam Sharma
3424⚘ *पूर्णिका* ⚘
3424⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
सावन आज फिर उमड़ आया है,
सावन आज फिर उमड़ आया है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
Shweta Soni
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
Praveen Bhardwaj
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
Ram Krishan Rastogi
*लय में होता है निहित ,जीवन का सब सार (कुंडलिया)*
*लय में होता है निहित ,जीवन का सब सार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
Mohan Pandey
होली आने वाली है
होली आने वाली है
नेताम आर सी
स्क्रीनशॉट बटन
स्क्रीनशॉट बटन
Karuna Goswami
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
Monika Verma
एक लड़का,
एक लड़का,
हिमांशु Kulshrestha
उगते विचार.........
उगते विचार.........
विमला महरिया मौज
जमाने से विद लेकर....
जमाने से विद लेकर....
Neeraj Mishra " नीर "
एक ही राम
एक ही राम
Satish Srijan
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
#गजल:-
#गजल:-
*प्रणय प्रभात*
मेरा नाम
मेरा नाम
Yash mehra
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Manisha Manjari
Loading...