Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच

भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच की ही होती है।

Babli Jha

209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नयन कुंज में स्वप्न का,
नयन कुंज में स्वप्न का,
sushil sarna
Life is a rain
Life is a rain
Ankita Patel
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वक्त कि ये चाल अजब है,
वक्त कि ये चाल अजब है,
SPK Sachin Lodhi
एक पुरुष जब एक महिला को ही सब कुछ समझ लेता है या तो वह बेहद
एक पुरुष जब एक महिला को ही सब कुछ समझ लेता है या तो वह बेहद
Rj Anand Prajapati
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
ताप
ताप
नन्दलाल सुथार "राही"
खाता काल मनुष्य को, बिछड़े मन के मीत (कुंडलिया)
खाता काल मनुष्य को, बिछड़े मन के मीत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
भूल ना था
भूल ना था
भरत कुमार सोलंकी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
योग का एक विधान
योग का एक विधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
हकीकत की जमीं पर हूँ
हकीकत की जमीं पर हूँ
VINOD CHAUHAN
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
Sonam Puneet Dubey
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
डॉ.सीमा अग्रवाल
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
विमला महरिया मौज
प्रमेय
प्रमेय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रकृति कि  प्रक्रिया
प्रकृति कि प्रक्रिया
Rituraj shivem verma
* प्रेम पथ पर *
* प्रेम पथ पर *
surenderpal vaidya
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
गुप्तरत्न
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
gurudeenverma198
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
शेखर सिंह
खामोशियां मेरी आवाज है,
खामोशियां मेरी आवाज है,
Stuti tiwari
★संघर्ष जीवन का★
★संघर्ष जीवन का★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
संजय कुमार संजू
महसूस करो दिल से
महसूस करो दिल से
Dr fauzia Naseem shad
"सफर"
Yogendra Chaturwedi
Loading...