Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Dec 2022 · 1 min read

भगवत गीता जयंती

ज्ञान कर्म और भक्ति योग की, त्रिवेणी भगवत गीता है
वेद उपनिषद और शास्त्र की, संगम भगवत गीता है
ज्ञान कर्म और धर्म मनुज का, गीता ज्ञान कराती है
मोह और अज्ञान नष्ट कर , जीवन जीना सिखलाती है
ज्ञान कर्म और भक्ति मार्ग, गीता ईश्वर की वाणी है
सुख और दुख से मुक्ति की, गीता अमृत में समानी है
गीता जीवन निवृत्ति है, गीता भवसागर मुक्ति है
जीवन जीने की युक्ति है,परम अलौकिक दृष्टि है
आत्म और परमात्म ज्ञान, असाधारण अभियुक्ति है
गीता है संसार सार, पारलौकिक प्रतिभूति है
ईश्वर जीव संबंधों की, गीता अनुपम कृति है
ओम नमो भगवते वासुदेवाय नमः।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
1 Like · 539 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
पंकज कुमार कर्ण
■ असलियत
■ असलियत
*प्रणय प्रभात*
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आरती करुँ विनायक की
आरती करुँ विनायक की
gurudeenverma198
"Radiance of Purity"
Manisha Manjari
भूख
भूख
Neeraj Agarwal
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
*सहकारी युग (हिंदी साप्ताहिक), रामपुर, उत्तर प्रदेश का प्रथम
*सहकारी युग (हिंदी साप्ताहिक), रामपुर, उत्तर प्रदेश का प्रथम
Ravi Prakash
2640.पूर्णिका
2640.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
स्क्रीनशॉट बटन
स्क्रीनशॉट बटन
Karuna Goswami
ऋतुराज
ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
Phool gufran
मिलन
मिलन
Bodhisatva kastooriya
मित्रता तुम्हारी हमें ,
मित्रता तुम्हारी हमें ,
Yogendra Chaturwedi
कुण्डल / उड़ियाना छंद
कुण्डल / उड़ियाना छंद
Subhash Singhai
रमेशराज के विरोधरस दोहे
रमेशराज के विरोधरस दोहे
कवि रमेशराज
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
Shiv kumar Barman
पाया तो तुझे, बूंद सा भी नहीं..
पाया तो तुझे, बूंद सा भी नहीं..
Vishal babu (vishu)
जनाब पद का नहीं किरदार का गुरुर कीजिए,
जनाब पद का नहीं किरदार का गुरुर कीजिए,
शेखर सिंह
जीवन की धूप-छांव हैं जिन्दगी
जीवन की धूप-छांव हैं जिन्दगी
Pratibha Pandey
"डिजिटल दुनिया! खो गए हैं हम.. इस डिजिटल दुनिया के मोह में,
पूर्वार्थ
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मुझे लगता था —
मुझे लगता था —
SURYA PRAKASH SHARMA
आग और धुआं
आग और धुआं
Ritu Asooja
चंद आंसूओं से भी रौशन होती हैं ये सारी जमीं,
चंद आंसूओं से भी रौशन होती हैं ये सारी जमीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अगर आपको सरकार के कार्य दिखाई नहीं दे रहे हैं तो हमसे सम्पर्
अगर आपको सरकार के कार्य दिखाई नहीं दे रहे हैं तो हमसे सम्पर्
Anand Kumar
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
ruby kumari
"" *जीवन आसान नहीं* ""
सुनीलानंद महंत
Loading...