Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2022 · 2 min read

भगत_सिंह- राजगुरू- सुखदेव

#भगत_सिंह- #राजगुरू- #सुखदेव

तीन परिंदे उड़े तो आसमान रो पड़ा,
ये हंस रहे थे मगर हिंदुस्तान रो पड़ा..!!

माँ भारती की रक्षा में अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले शहीद शिरोमणि सरदार भगत सिंह, सुखदेव व राजगुरु को शहीदी दिवस पर कोटि-कोटि नमन।
सम्पूर्ण भारतवर्ष इन वीर सपूतों द्वारा दिए गए बलिदान का सदैव ऋणी रहेगा।

#राजगुरु के नामाकरण की कहानी ————-

24 अगस्त, 1908 को खेड़ा पुणे (महाराष्ट्र) में पण्डित हरिनारायण राजगुरु और पार्वती देवी के घर महान क्रांतिकारी और अमर बलिदानी का जन्म हुआ। शिवराम हरिनारायण अपने नाम के पीछे राजगुरु लिखते थे। यह कोई उपनाम नहीं है, बल्कि एक उपाधि थी। राजगुरू के पिता पण्डित हरिनारायण राजगुरु, पण्डित कचेश्वर की सातवीं पीढ़ी में जन्मे थे। इनका उपनाम ब्रह्मे था। यह प्रकांड ज्ञानी पण्डित थे।
एक बार जब महाराष्ट्र में भयंकर अकाल पड़ा तो पण्डित कचेश्वर ने इंद्र देव को प्रसन्न करने के लिए यज्ञ किया। लगातार 2 दिनों तक घोर यज्ञ करने के बाद तीसरे दिन सुबह बहुत तेज़ बारिश शुरू हुई जो कि बिना रुके लगभग एक सप्ताह तक चलती रही। इससे पण्डित कचेश्वर की ख्याति पूरे मराठा रियासत में फैल गई। जब इसकी सूचना शाहू जी महाराज तक पहुंची तो वह भी इनकी मंत्र शक्ति के प्रशंसक हो गए।
उस समय मराठा सम्राज्य में शाहू जी महाराज और तारा बाई के बीच राज गद्दी को लेकर टकराव चल रहा था। इसमें शाहू जी महाराज की स्थिति कमजोर थी क्योंकि मराठा सरदार ताराबाई की सहायता कर रहे थे। इसी घोर विकट परिस्थिति में शाहू जी महाराज को पण्डित कचेश्वर एक आशा की किरण लगे। इसी के चलते शाहू जी महाराज इनसे मिलने चाकण गांव पहुंचे।
शाहू जी महाराज ने अपने राज के खिलाफ हो रहे षड्यंत्रों से अवगत करवाते हुए उनसे आशीर्वाद मांगा। पण्डित कचेश्वर ने आशीर्वाद देते हुए युद्ध में इनके जीतने की घोषणा की जिसके बाद शाहू जी महाराज की अंतिम युद्ध में जीत हुई। शाहू जी ने इस जीत का श्रेय पण्डित कचेश्वर को दिया और उन्हें अपना गुरु मानते हुए राजगुरु की उपाधि दी। तभी से इनके वंशज अपने नाम के पीछे राजगुरु लगाने लगे।
#शहीदी_दिवस
#इंकलाब_जिंदाबाद..!!
#BhagatSingh
#भारतमाताकीजय

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
shabina. Naaz
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
gurudeenverma198
"आँखें "
Dr. Kishan tandon kranti
😢
😢
*प्रणय प्रभात*
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
चिल्हर
चिल्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कभी
कभी
हिमांशु Kulshrestha
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
अश्रु (नील पदम् के दोहे)
अश्रु (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाल कविता: चिड़िया आयी
बाल कविता: चिड़िया आयी
Rajesh Kumar Arjun
मेरी नाव
मेरी नाव
Juhi Grover
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
Atul "Krishn"
यही है हमारी मनोकामना माँ
यही है हमारी मनोकामना माँ
Dr Archana Gupta
सनम
सनम
Sanjay ' शून्य'
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
*घड़ा (बाल कविता)*
*घड़ा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
Shashi kala vyas
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आओ मिलकर नया साल मनाये*
आओ मिलकर नया साल मनाये*
Naushaba Suriya
नजर से मिली नजर....
नजर से मिली नजर....
Harminder Kaur
आ लौट के आजा टंट्या भील
आ लौट के आजा टंट्या भील
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हनुमान जी के गदा
हनुमान जी के गदा
Santosh kumar Miri
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
मै पूर्ण विवेक से कह सकता हूँ
मै पूर्ण विवेक से कह सकता हूँ
शेखर सिंह
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
Rj Anand Prajapati
“गणतंत्र दिवस”
“गणतंत्र दिवस”
पंकज कुमार कर्ण
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
Loading...