Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2016 · 1 min read

भगत सिंह का क्षोभ—- सुनो मेरी आत्मा की आवाज

भगत सिंह का क्षोभ

आँखोंसे बहती अश्रुधारा को केसे रोकूं
आत्मा से उठती़क्षोभ की ज्वाला को केसे रोकू
खून के बदले मिली आजादी की
क्यों दुरगति बना डाली है
हर शहीद की आत्मा रोती है
हर जन की नजर सवाली है
क्या होगा मेरे देश का कौन इसे बचाएगा
इन भ्रष्टाचारी नेताओं परं अंकुश कौन लगायेगा
दुख होता है जब मेरी प्रतिमा का
इन से आवरण उठवाते हो
क्यों मेरी कुर्बानी का इन से
मजाक उडवाते हो
पूछो उन से क्या कभी
देश से प्यार किया है
क्या अपने बच्चों को
राष्ट्र्प्रेम का सँस्कार दिया है
या बस नोटों बोटों का ही व्यापार किया है
देख शासकों के रंग ढ्ग
टूटे सपने काँच सरीखे
कौन बचायेगा मेरे देश को
देषद्रोहियों के वार हैं तीखे
मेरे प्यारे देशवासियो
अब और ना समय बरबाद करो
देश को केसे बचाना है
इस पर सोव विचार करो
मुझ याचक क हृ्द्योदगार
जन जन तक् पहुँचाओ
इस देश के बच्चे बच्चे को
देषप्रेम का पाठ पढाओ
सच मानो जब हर घर में
इक भगतसिंह हो जायेग
विश्व गुरू कहलायेगा
चाह्ते हो मेरा कर्ज चुकाना
तो कलम को शमशीर बनाओ
चीर दे सीना सब का
सोये हुये जमीर जगाओ
लिखकर एक अमरगीत
इन्कलाब की ज्वाला जलाओ

Language: Hindi
Tag: कविता
3 Comments · 254 Views
You may also like:
श्याम घनाक्षरी-2
सूर्यकांत द्विवेदी
*महान साहित्यकार डॉक्टर छोटेलाल शर्मा नागेंद्र के पत्र*
Ravi Prakash
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
प्रश्न! प्रश्न लिए खड़ा है!
Anamika Singh
माँ का आँचल
Nishant prakhar
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
जितनी बार निहारा उसको
Shivkumar Bilagrami
🏠कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
!!!! मेरे शिक्षक !!!
जगदीश लववंशी
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
'विजय दिवस'
Godambari Negi
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
बेटियां
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
ये वतन हमारा है
Dr fauzia Naseem shad
कलाकार की कला
Skanda Joshi
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
कोहिनूर
Dr.sima
विचार
Vishnu Prasad 'panchotiya'
स्त्री और नदी का स्वच्छन्द विचरण घातक और विनाशकारी
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
A pandemic 'Corona'
Buddha Prakash
✍️दिल शायर होता है...✍️
'अशांत' शेखर
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
लावा
Shekhar Chandra Mitra
" समय "
DrLakshman Jha Parimal
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalveer Singh
Loading...