Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

भगत सिंह का क्षोभ—- सुनो मेरी आत्मा की आवाज

भगत सिंह का क्षोभ

आँखोंसे बहती अश्रुधारा को केसे रोकूं
आत्मा से उठती़क्षोभ की ज्वाला को केसे रोकू
खून के बदले मिली आजादी की
क्यों दुरगति बना डाली है
हर शहीद की आत्मा रोती है
हर जन की नजर सवाली है
क्या होगा मेरे देश का कौन इसे बचाएगा
इन भ्रष्टाचारी नेताओं परं अंकुश कौन लगायेगा
दुख होता है जब मेरी प्रतिमा का
इन से आवरण उठवाते हो
क्यों मेरी कुर्बानी का इन से
मजाक उडवाते हो
पूछो उन से क्या कभी
देश से प्यार किया है
क्या अपने बच्चों को
राष्ट्र्प्रेम का सँस्कार दिया है
या बस नोटों बोटों का ही व्यापार किया है
देख शासकों के रंग ढ्ग
टूटे सपने काँच सरीखे
कौन बचायेगा मेरे देश को
देषद्रोहियों के वार हैं तीखे
मेरे प्यारे देशवासियो
अब और ना समय बरबाद करो
देश को केसे बचाना है
इस पर सोव विचार करो
मुझ याचक क हृ्द्योदगार
जन जन तक् पहुँचाओ
इस देश के बच्चे बच्चे को
देषप्रेम का पाठ पढाओ
सच मानो जब हर घर में
इक भगतसिंह हो जायेग
विश्व गुरू कहलायेगा
चाह्ते हो मेरा कर्ज चुकाना
तो कलम को शमशीर बनाओ
चीर दे सीना सब का
सोये हुये जमीर जगाओ
लिखकर एक अमरगीत
इन्कलाब की ज्वाला जलाओ

3 Comments · 203 Views
You may also like:
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
प्यार भरे गीत
Dr.sima
सुबह
AMRESH KUMAR VERMA
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
आईनें में सूरत।
Taj Mohammad
काश हमारे पास भी होती ये दौलत।
Taj Mohammad
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
ये दिल फरेबी गंदा है।
Taj Mohammad
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
तेरे वजूद को।
Taj Mohammad
कहां मालूम था इसको।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
महान है मेरे पिता
gpoddarmkg
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
*ससुराला : ( काव्य ) वसंत जमशेदपुरी*
Ravi Prakash
यह दुनियाँ
अनामिका सिंह
☆☆ प्यार का अनमोल मोती ☆☆
Dr. Alpa H. Amin
कायनात से दिल्लगी कर लो।
Taj Mohammad
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
मुझसे मेरा हाल न पूछे
Shiva Awasthi
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr. Alpa H. Amin
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...