Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 1 min read

भक्तिभाव

भक्तिभाव

पूरी पंडिताइन है मालती। गजब की पूजा-पाठी कोई भी व्रत-त्योहार नहीं छोड़तीं। हरेली, जन्माष्टमी, महाशिवरात्रि, करवा चौथ, हरितालिका व्रत, सब निर्जला रखती हैं। आज के युग में भी वह प्याज, लहसुन तक नहीं खाती।
वह अन्नपूर्णा देवी का व्रत करती हैै। इस बार उद्यापन करना था। धूमधाम से तैयारियाँ चल रही थी। रोज बाजार आना-जाना लगा ही रहता था। एक अच्छा पड़ोसी होने के नाते कई बार मैं भी साथ में चला जाता था। इक्कीस ब्राह्मणों को भोजन कराना था। सात प्रकार की मिठाई, सात प्रकार के फल और सात सौ रूपए दक्षिणा की व्यवस्था करना कोई आसान काम तो नहीं था।
आज बाजार से लौटते समय घर के बाहर एक गरीब भिखारन, जो ठीक से खड़ी भी नहीं हो पा रही थी अपने दूधमुहे बच्चों को गोद में लेकर मालती के सामने गिड़गिड़ाने लगी, ‘‘माई कुछ खाने को दे दो तीन दिन से पेट में कुछ गया नहीं है। छाती में दूध नहीं आने से बच्चा भी भूख से बेहाल है। माँई थोड़ा रहम हो जाए।’’
मालती मारे गुस्से से तमतमा उठी, ‘‘चल-चल परे हट। छूना मत अभी, ये सब अशुद्ध हो जाएँगे। मुझे अभी और भी बहुत सी तैयारी करनी है।’’
डाॅ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आश्रम
आश्रम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
Buddha Prakash
क्रांतिवीर नारायण सिंह
क्रांतिवीर नारायण सिंह
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
कमीना विद्वान।
कमीना विद्वान।
Acharya Rama Nand Mandal
" आशा "
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी में रंग भरना आ गया
जिंदगी में रंग भरना आ गया
Surinder blackpen
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*वह बिटिया थी*
*वह बिटिया थी*
Mukta Rashmi
उम्र पैंतालीस
उम्र पैंतालीस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
वक्त की कहानी भारतीय साहित्य में एक अमर कहानी है। यह कहानी प
कार्तिक नितिन शर्मा
एक सत्य यह भी
एक सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
"आधुनिक नारी"
Ekta chitrangini
आदमी और मच्छर
आदमी और मच्छर
Kanchan Khanna
मतला
मतला
Anis Shah
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
SHAMA PARVEEN
उदासी एक ऐसा जहर है,
उदासी एक ऐसा जहर है,
लक्ष्मी सिंह
*पहले वाले  मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
*पहले वाले मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
Paras Nath Jha
वाणी और पाणी का उपयोग संभल कर करना चाहिए...
वाणी और पाणी का उपयोग संभल कर करना चाहिए...
Radhakishan R. Mundhra
#तार्किक_तथ्य
#तार्किक_तथ्य
*प्रणय प्रभात*
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
gurudeenverma198
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
(22) एक आंसू , एक हँसी !
(22) एक आंसू , एक हँसी !
Kishore Nigam
दिल से कह देना कभी किसी और की
दिल से कह देना कभी किसी और की
शेखर सिंह
ऐसे ना मुझे  छोड़ना
ऐसे ना मुझे छोड़ना
Umender kumar
Loading...