Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

“भंडारा”

“भंडारा”……एक लघु कथा
******************************************************************************************************************
-सामने वाले मंदिर के भगवान साक्षात हैं सेठ जी ! जो भी मन्नत मांगो तुरंत पूरा करते हैं । देखिये ना ! आज से ठीक एक साल पहले मैंने इसी मंदिर में मन्नत मांगी थी कि एक साल में मेरा सारा कर्ज़ उतर जाये तो मैं यहाँ पर भंडारा करवाऊँगा । चमत्कार हो गया सेठ जी ! एक साल पूरा होने से ठीक एक दिन पहले मेरा सारा कर्ज़ उतर गया । मुझे भंडारा करवाना है सेठ जी ! ये लीजिये भंडारे के सामान की लिस्ट ! यह सामान दे दीजिये !
– कितने पैसे हो गए सेठ जी ? -सामान पैक करवाने के बाद उसने पूछा ।
– पूरे दस हज़ार !
– अच्छी बात सेठ जी ! एक विनती करनी है आपसे !
– बोलो-बोलो ! सेठ जी आवाज़ को ऊंची करते हुए बोले ।
– ये सामान मुझे उधार तो मिल जाएगा ना सेठ जी ! भगवान की कृपा रही तो जल्दी चुका दूंगा !
सेठ जी कभी उसको तो कभी उस मंदिर को देखने लगे ।
******************************************************************************************************************
हरीश लोहुमी, लखनऊ (उ॰प्र॰)

Language: Hindi
512 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दादी की वह बोरसी
दादी की वह बोरसी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
-अपनो के घाव -
-अपनो के घाव -
bharat gehlot
शमा से...!!!
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
खंड: 1
खंड: 1
Rambali Mishra
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
DrLakshman Jha Parimal
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
gurudeenverma198
चला आया घुमड़ सावन, नहीं आए मगर साजन।
चला आया घुमड़ सावन, नहीं आए मगर साजन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
Kshma Urmila
*थियोसॉफिकल सोसायटी  से मेरा संपर्क*
*थियोसॉफिकल सोसायटी से मेरा संपर्क*
Ravi Prakash
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
Kumar lalit
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
रक्त संबंध
रक्त संबंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सफर की महोब्बत
सफर की महोब्बत
Anil chobisa
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
कवि रमेशराज
◆हरे-भरे रहने के लिए ज़रूरी है जड़ से जुड़े रहना।
◆हरे-भरे रहने के लिए ज़रूरी है जड़ से जुड़े रहना।
*Author प्रणय प्रभात*
ख़ून इंसानियत का
ख़ून इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
** बहुत दूर **
** बहुत दूर **
surenderpal vaidya
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
-- क्लेश तब और अब -
-- क्लेश तब और अब -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
Ram Krishan Rastogi
फिसल गए खिलौने
फिसल गए खिलौने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
Sanjay ' शून्य'
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Sakshi Tripathi
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
Shekhar Chandra Mitra
# होड़
# होड़
Dheerja Sharma
*याद है  हमको हमारा  जमाना*
*याद है हमको हमारा जमाना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
Ranjeet kumar patre
Loading...