Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

*”ब्रम्हचारिणी माँ”*

“ब्रम्हचारिणी माँ”
जप तप आराधना में लीन हो ,
साधना शक्ति चेतना जगाती।
शिव को पति रूप में पाने को ,घोर तपस्या से ही ब्रम्हचारिणी कहलाती।
🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱
सुंदर सौम्य दिव्य स्वरूपिणी निर्मल स्वभाव हमको लुभाती।
दांये कर जपमाला बाँये कमंडल ,
जप तप नियम संयम आराधना करना बतलाती।
🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱
परम चेतनामयी त्रिलोकी अर्धनारीश्वर ,
सदचित आनंद सत्कर्मों पर चलना हमें सिखलाती।
भक्तों को सद्बुद्धि दे अनंत सुख समृद्धि दे जाती।
🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱
विपदा की घड़ी में संघर्षो से जूझ,
कर्त्तव्य पथ पर सत्मार्ग दिखलाती।
साधक मन जब सिद्धि हेतु जप तप आराधना में लीन हो,
सर्वसिद्धि आराधना से दुःख कष्टों से मुक्ति दे जाती।
🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱
रोग शोक दुख कष्टों को हरती ,
भक्तों में आस्था विश्वास जगाती।
समस्त विश्व में प्राणियों को अपना नवल स्वरूप ब्रम्हचारिणी सौम्य रूप दिखलाती।
🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱
तपस्या में लीन आलौकिक दिव्य शक्ति ,
भक्तिमय रस चैतन्य कर जाती।
ध्यान साधना कठिन तप वैराग्य ज्ञान से ही ,
नियम संयम सेवा भावना जागृत कर जाती।
🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱
या देवी सर्वभूतेषु माँ
ब्रम्हचारिणी रूपेण संस्थिता
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः…..! ! ! 🙏🚩
जय माँ ब्रम्हचारिणी
शशिकला व्यास शिल्पी✍️🙏🚩

1 Like · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं भी अपनी नींद लुटाऊं
मैं भी अपनी नींद लुटाऊं
करन ''केसरा''
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
ऐसी विकट परिस्थिति,
ऐसी विकट परिस्थिति,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
manjula chauhan
शिव
शिव
Dr. Vaishali Verma
जीवन
जीवन
Santosh Shrivastava
"Communication is everything. Always always tell people exac
पूर्वार्थ
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
Keshav kishor Kumar
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Paras Nath Jha
"कोहरा रूपी कठिनाई"
Yogendra Chaturwedi
हर पल
हर पल
Neelam Sharma
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
" शांत शालीन जैसलमेर "
Dr Meenu Poonia
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
Phool gufran
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
*रामपुर रजा लाइब्रेरी की दरबार हॉल गैलरी : मृत्यु का बोध करा
*रामपुर रजा लाइब्रेरी की दरबार हॉल गैलरी : मृत्यु का बोध करा
Ravi Prakash
कटघरे में कौन?
कटघरे में कौन?
Dr. Kishan tandon kranti
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
Minakshi
तितली रानी
तितली रानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इश्क़ एक दरिया है डूबने से डर नहीं लगता,
इश्क़ एक दरिया है डूबने से डर नहीं लगता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
विजय कुमार अग्रवाल
हो गरीबी
हो गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
Dr Archana Gupta
🙅नया मुहावरा🙅
🙅नया मुहावरा🙅
*प्रणय प्रभात*
अंधेरों में अस्त हो, उजाले वो मेरे नाम कर गया।
अंधेरों में अस्त हो, उजाले वो मेरे नाम कर गया।
Manisha Manjari
दिलों का हाल तु खूब समझता है
दिलों का हाल तु खूब समझता है
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...