Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Nov 2016 · 3 min read

ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी

हमारे देश में हजारों ऐसे लोककवि हैं, जो सच्चे अर्थों में जनता की भावनाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं। वे न केवल स्वयं, बल्कि अपनी रचनाओं के साथ गुमनामी के अंधेरे में गुम हो जाते हैं। आभिजात्यवर्गीय-साहित्य उनकी रचनाओं को और उनको महत्व देने में संभवतः इसी कारण डरता है कि कहीं ऐसे कवियों की रचनाधर्मिता के आगे उनके भव्य शब्द-विधा न कहीं फीके न पड़ जाएं। हिन्दी-क्षेत्र के ही इन्हीं हजारों कवियों में से एक नाम स्व. रामचरन गुप्त का रहा है।
पाठ्य-पुस्तकीय साहित्य से अलग कवि गुप्त की कविता में एक सच्चे देश-प्रेमी, एक सच्चे लोकमन की छटा देखी जा सकती है। कवि अधिक पढ़ा-लिखा नहीं है। पोथियों से उसका सरोकार केवल जीवन के प्रश्नों को समझने और सुलझाने के क्रम में रहा है। उसके गीत शब्द-शास्त्राीय स्वरूप ग्रहण नहीं कर सके हैं। अलंकार और छंद विधान को कविता की कसौटी मानने वालों को उनकी कविताएं पढ़कर तुष्टि भले ही न मिले, किन्तु अपने देश, देश पर मर मिटने वाले वीर जवानों और अपने ईश्वर के प्रति उनके अनुराग में कोई खोट निकाल पाना संभवतः उनके लिए भी दुष्कर होगा।
स्व. रामचरन गुप्त का जीवन हमारे देश के उस समय का साक्षी रहा है, जिसने अंग्रेजों की गुलामी और स्वतंत्राता के पश्चात् देशी सामंतों-साहूकारों की गुलामी दोनों को झेला है। अंग्रेजों की गुलामी को झेलते हुए कवि ने अपने जीवन के सुनहरे क्षणों-युवावस्था को गरीबी और अभावों से काटा। कवि के जीवन में ऐसा भी समय आया जब एक दिन की मजदूरी न करने का मतलब घर में एक दिन का पफाका था।
कवि ने अपने दुर्दिनों को ईश्वर की उस प्रार्थना में उतारा जो केवल कवि की प्रार्थना नहीं बल्कि दुख-दर्द से पीडि़त उस युग की प्रार्थना थी, जब हर लोक-मन यही पुकारता था-
‘‘नैया कर देउ पार हमारी
——–
विलख रहे पुरवासी ऐसे-
चैखन दूध मात सुरभी कौ
विलखत बछरा भोर।
‘देशभक्ति में दीवाना’ लोककवि रामचरन गुप्त सीमा पार दुश्मनों को कभी तलवार बनकर, कभी यमदूत बनकर तो कभी भारी चट्टान बनकर चुनौती देता है। गोरों को भगाने के लिए, आज़ादी को बुलाने के लिए, वह शमशीर खींचकर खून की होली खेलने के लिए जनता का आव्हान करता है-
‘‘तुम जगौ हिंद के वीर, समय आजादी कौ आयौ।
होली खूं से खेलौ भइया, बनि क्रान्ति-इतिहास-रचइया,
बदलौ भारत की तकदीर, समय आज़ादी कौ आयौ।
गोरे देश को लूटते हैं, तो कवि कहता है-‘‘ सावन मांगै खूँ अंग्रेज कौ जी’’। आजादी के बाद जब देशी पूँजीपति, राजनेता बदनाम होते हैं तो कवि उनकी अमेरिकी सांठ-गांठ की भर्त्सना करता है। जब मंहगाई आती है तो कवि को एक-एक रोटी को तरसती जनता अभी भी परतंत्र नजर आती है। कवि भूख को समझता है, इसलिए भूखों की आवाज़ बनकर अपने गीतों में प्रस्तुत होता है। ये गीत न केवल भावप्रवण हैं बल्कि उस मानवीय चिन्ता को भी प्रकट करते हैं जो इस युग की सबसे बड़ी चिन्ता है।

आम जनता का जीवन जीने वाले स्व. रामचरन गुप्त अपने जीवन संघर्षों, लोकगीतों की मिठास से युक्त भजनों और देशभक्ति पूर्ण कविताओं के चलते निश्चित ही एक सफल लोककवि कहे जाने के पात्र हैं। ब्रजभाषा की लोककवियों तथा लोकगायकों की परम्परा में वे अमिट रहेंगे, ऐसा विश्वास है।

Language: Hindi
Tag: लेख
287 Views
You may also like:
ये संघर्ष
ये संघर्ष
Ray's Gupta
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वह है बहन।
वह है बहन।
Satish Srijan
शिकायत है उन्हें
शिकायत है उन्हें
मानक लाल"मनु"
तुम मेरे मालिक मेरे सरकार कन्हैया
तुम मेरे मालिक मेरे सरकार कन्हैया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अति
अति
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुक्तक
मुक्तक
Er.Navaneet R Shandily
विषाद
विषाद
Saraswati Bajpai
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
✍️चीते की रफ़्तार
✍️चीते की रफ़्तार
'अशांत' शेखर
"मैं आज़ाद हो गया"
Lohit Tamta
"माटी तेरे रंग हजार"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यारी मेरी बहना
प्यारी मेरी बहना
Buddha Prakash
Book of the day: मैं और तुम (काव्य संग्रह)
Book of the day: मैं और तुम (काव्य संग्रह)
Sahityapedia
एक वीरांगना का अन्त !
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
चोट मैं भी खायें हैं , तेरे इश्क में काफ़िर
चोट मैं भी खायें हैं , तेरे इश्क में काफ़िर
Manoj Kumar
*
*
Rashmi Sanjay
सरकार और नेता कैसे होने चाहिए
सरकार और नेता कैसे होने चाहिए
Ram Krishan Rastogi
“ मेरे सपनों की दुनियाँ ”
“ मेरे सपनों की दुनियाँ ”
DrLakshman Jha Parimal
मत्तगयंद सवैया छंद
मत्तगयंद सवैया छंद
संजीव शुक्ल 'सचिन'
" वर्ष 2023 धमाकेदार होगा बालीवुड बाक्स आफ़िस के लिए...
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मुनादी कर रहे हैं (हिंदी गजल/ गीतिका)
मुनादी कर रहे हैं (हिंदी गजल/ गीतिका)
Ravi Prakash
किस से पूछूं?
किस से पूछूं?
Surinder blackpen
नयी हैं कोंपले
नयी हैं कोंपले
surenderpal vaidya
ताउम्र लाल रंग से वास्ता रहा मेरा
ताउम्र लाल रंग से वास्ता रहा मेरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कैसी विडम्बना है
कैसी विडम्बना है
Shekhar Chandra Mitra
डगर-डगर नफ़रत
डगर-डगर नफ़रत
Dr. Sunita Singh
🌹🌺कैसे कहूँ मैं अकेला हूँ, तुम्हारी याद जो है संग में🌺🌹
🌹🌺कैसे कहूँ मैं अकेला हूँ, तुम्हारी याद जो है संग...
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ प्रेरक प्रसंग
■ प्रेरक प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
अब वो किसी और से इश्क़ लड़ाती हैं
अब वो किसी और से इश्क़ लड़ाती हैं
Writer_ermkumar
Loading...