Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Nov 2016 · 3 min read

ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी

हमारे देश में हजारों ऐसे लोककवि हैं, जो सच्चे अर्थों में जनता की भावनाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं। वे न केवल स्वयं, बल्कि अपनी रचनाओं के साथ गुमनामी के अंधेरे में गुम हो जाते हैं। आभिजात्यवर्गीय-साहित्य उनकी रचनाओं को और उनको महत्व देने में संभवतः इसी कारण डरता है कि कहीं ऐसे कवियों की रचनाधर्मिता के आगे उनके भव्य शब्द-विधा न कहीं फीके न पड़ जाएं। हिन्दी-क्षेत्र के ही इन्हीं हजारों कवियों में से एक नाम स्व. रामचरन गुप्त का रहा है।
पाठ्य-पुस्तकीय साहित्य से अलग कवि गुप्त की कविता में एक सच्चे देश-प्रेमी, एक सच्चे लोकमन की छटा देखी जा सकती है। कवि अधिक पढ़ा-लिखा नहीं है। पोथियों से उसका सरोकार केवल जीवन के प्रश्नों को समझने और सुलझाने के क्रम में रहा है। उसके गीत शब्द-शास्त्राीय स्वरूप ग्रहण नहीं कर सके हैं। अलंकार और छंद विधान को कविता की कसौटी मानने वालों को उनकी कविताएं पढ़कर तुष्टि भले ही न मिले, किन्तु अपने देश, देश पर मर मिटने वाले वीर जवानों और अपने ईश्वर के प्रति उनके अनुराग में कोई खोट निकाल पाना संभवतः उनके लिए भी दुष्कर होगा।
स्व. रामचरन गुप्त का जीवन हमारे देश के उस समय का साक्षी रहा है, जिसने अंग्रेजों की गुलामी और स्वतंत्राता के पश्चात् देशी सामंतों-साहूकारों की गुलामी दोनों को झेला है। अंग्रेजों की गुलामी को झेलते हुए कवि ने अपने जीवन के सुनहरे क्षणों-युवावस्था को गरीबी और अभावों से काटा। कवि के जीवन में ऐसा भी समय आया जब एक दिन की मजदूरी न करने का मतलब घर में एक दिन का पफाका था।
कवि ने अपने दुर्दिनों को ईश्वर की उस प्रार्थना में उतारा जो केवल कवि की प्रार्थना नहीं बल्कि दुख-दर्द से पीडि़त उस युग की प्रार्थना थी, जब हर लोक-मन यही पुकारता था-
‘‘नैया कर देउ पार हमारी
——–
विलख रहे पुरवासी ऐसे-
चैखन दूध मात सुरभी कौ
विलखत बछरा भोर।
‘देशभक्ति में दीवाना’ लोककवि रामचरन गुप्त सीमा पार दुश्मनों को कभी तलवार बनकर, कभी यमदूत बनकर तो कभी भारी चट्टान बनकर चुनौती देता है। गोरों को भगाने के लिए, आज़ादी को बुलाने के लिए, वह शमशीर खींचकर खून की होली खेलने के लिए जनता का आव्हान करता है-
‘‘तुम जगौ हिंद के वीर, समय आजादी कौ आयौ।
होली खूं से खेलौ भइया, बनि क्रान्ति-इतिहास-रचइया,
बदलौ भारत की तकदीर, समय आज़ादी कौ आयौ।
गोरे देश को लूटते हैं, तो कवि कहता है-‘‘ सावन मांगै खूँ अंग्रेज कौ जी’’। आजादी के बाद जब देशी पूँजीपति, राजनेता बदनाम होते हैं तो कवि उनकी अमेरिकी सांठ-गांठ की भर्त्सना करता है। जब मंहगाई आती है तो कवि को एक-एक रोटी को तरसती जनता अभी भी परतंत्र नजर आती है। कवि भूख को समझता है, इसलिए भूखों की आवाज़ बनकर अपने गीतों में प्रस्तुत होता है। ये गीत न केवल भावप्रवण हैं बल्कि उस मानवीय चिन्ता को भी प्रकट करते हैं जो इस युग की सबसे बड़ी चिन्ता है।

आम जनता का जीवन जीने वाले स्व. रामचरन गुप्त अपने जीवन संघर्षों, लोकगीतों की मिठास से युक्त भजनों और देशभक्ति पूर्ण कविताओं के चलते निश्चित ही एक सफल लोककवि कहे जाने के पात्र हैं। ब्रजभाषा की लोककवियों तथा लोकगायकों की परम्परा में वे अमिट रहेंगे, ऐसा विश्वास है।

Language: Hindi
Tag: लेख
410 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
तबीयत मचल गई
तबीयत मचल गई
Surinder blackpen
रामलला
रामलला
Saraswati Bajpai
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
अच्छे बच्चे
अच्छे बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इस जीवन के मधुर क्षणों का
इस जीवन के मधुर क्षणों का
Shweta Soni
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
मेरा दिन भी आएगा !
मेरा दिन भी आएगा !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ज्ञान~
ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
ज़िन्दगी और प्रेम की,
ज़िन्दगी और प्रेम की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
Ranjeet kumar patre
काश यह मन एक अबाबील होता
काश यह मन एक अबाबील होता
Atul "Krishn"
सच्ची दोस्ती -
सच्ची दोस्ती -
Raju Gajbhiye
■ आज की बात...!
■ आज की बात...!
*Author प्रणय प्रभात*
विजेता सूची- “सत्य की खोज” – काव्य प्रतियोगिता
विजेता सूची- “सत्य की खोज” – काव्य प्रतियोगिता
Sahityapedia
सेंगोल और संसद
सेंगोल और संसद
Damini Narayan Singh
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
तारों जैसी आँखें ,
तारों जैसी आँखें ,
SURYA PRAKASH SHARMA
कुछ बातें मन में रहने दो।
कुछ बातें मन में रहने दो।
surenderpal vaidya
"चलना"
Dr. Kishan tandon kranti
💐अज्ञात के प्रति-84💐
💐अज्ञात के प्रति-84💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपने आमाल पे
अपने आमाल पे
Dr fauzia Naseem shad
इश्क की पहली शर्त
इश्क की पहली शर्त
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
योग दिवस पर
योग दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
*जिंदगी के युद्ध में, मत हार जाना चाहिए (गीतिका)*
*जिंदगी के युद्ध में, मत हार जाना चाहिए (गीतिका)*
Ravi Prakash
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
Rajesh vyas
परखा बहुत गया मुझको
परखा बहुत गया मुझको
शेखर सिंह
23/03.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/03.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
Er.Navaneet R Shandily
कोई मिले जो  गले लगा ले
कोई मिले जो गले लगा ले
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...