Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2017 · 1 min read

!!! बोल बम बम प्यारे !!!!

इक दिन बिक जाएगा, माटी के मोल
जग में रह जायेंगे, प्यारे तेरे बोल
दूजे की ओठो को देकर अपने गीत
कोई निशानी छोड़, फिर दुनिया से डोल….

कर्म ऐसा करो, लोग बना दे तुम को अनमोल
ऐसा न करो की कश्ती हो जाए डांवाडोल
सुबह सवेरे उठ कर , राम कृष्ण तू सब से बोल
सब यहीं रह जाना है, यहाँ कर्मों का है बस मोल..

जितना जिस से प्यार से कर देगा बम बम बोल
वो काम आएगा जग में, सब भी कहेंगे बम बम बोल
जो भी कहना, कहना सब तू तोल तोल
आहत न हो जाये तुझ से कोई,
बस इसी का है प्यारे मोल ..

अजीत कुमार तलवार
मेरठ.

Language: Hindi
268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
श्रीराम
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
■ लिख दिया है ताकि सनद रहे और वक़्त-ए-ज़रूरत काम आए।
■ लिख दिया है ताकि सनद रहे और वक़्त-ए-ज़रूरत काम आए।
*Author प्रणय प्रभात*
କେବଳ ଗୋଟିଏ
କେବଳ ଗୋଟିଏ
Otteri Selvakumar
नकाबपोश रिश्ता
नकाबपोश रिश्ता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
उनकी यादें
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
~~🪆 *कोहबर* 🪆~~
~~🪆 *कोहबर* 🪆~~
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
ना मंजिल की कमी होती है और ना जिन्दगी छोटी होती है
ना मंजिल की कमी होती है और ना जिन्दगी छोटी होती है
शेखर सिंह
मेरी कविताएं पढ़ लेना
मेरी कविताएं पढ़ लेना
Satish Srijan
*ओ मच्छर ओ मक्खी कब, छोड़ोगे जान हमारी【 हास्य गीत】*
*ओ मच्छर ओ मक्खी कब, छोड़ोगे जान हमारी【 हास्य गीत】*
Ravi Prakash
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
Dr Shweta sood
"अजीज"
Dr. Kishan tandon kranti
अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है
अगर किरदार तूफाओँ से घिरा है
'अशांत' शेखर
296क़.*पूर्णिका*
296क़.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
Kishore Nigam
सबक
सबक
manjula chauhan
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नेक मनाओ
नेक मनाओ
Ghanshyam Poddar
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
पूर्वार्थ
ऐ मोहब्बत तेरा कर्ज़दार हूं मैं।
ऐ मोहब्बत तेरा कर्ज़दार हूं मैं।
Phool gufran
💐प्रेम कौतुक-156💐
💐प्रेम कौतुक-156💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
जगदीश शर्मा सहज
everyone says- let it be the defect of your luck, be forget
everyone says- let it be the defect of your luck, be forget
Ankita Patel
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
* रंग गुलाल अबीर *
* रंग गुलाल अबीर *
surenderpal vaidya
Loading...