Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

!! बोलो कौन !!

दानवता के विष बेल को
आगे बढ़ रोकेगा कौन !
असुरों का वध करनेवाला
बोलो राम बनेगा कौन !!

सीता पर कुदृष्टि डालते
पहले उन्हें वधेगा कौन !
हर तन में रावण बसता है
बोलो राम बनेगा कौन !!

दुष्टों के दरबार में जा कर
कपि सा ज़ाल बुनेगा कौन !
सिन्धु साधने वाले हनु का
बोलो राम बनेगा कौन ‌ !!

ईर्ष्या की बढ़ती ज्वाला को
प्रीत सिखा सोखेगा कौन !
शबरी के जूठे बेर चखे जो
बोलो राम बनेगा कौन !!

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता – मऊ (उ.प्र.)

1 Like · 387 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
DrLakshman Jha Parimal
संग दीप के .......
संग दीप के .......
sushil sarna
सत्य
सत्य
लक्ष्मी सिंह
मुझे ना पसंद है*
मुझे ना पसंद है*
Madhu Shah
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
Shalini Mishra Tiwari
शांति से खाओ और खिलाओ
शांति से खाओ और खिलाओ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
Vishal babu (vishu)
मेरा सपना
मेरा सपना
Adha Deshwal
मेरी माटी मेरा देश भाव
मेरी माटी मेरा देश भाव
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अधिकार और पशुवत विचार
अधिकार और पशुवत विचार
ओंकार मिश्र
वह स्त्री / MUSAFIR BAITHA
वह स्त्री / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
संवेदनाएं
संवेदनाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खो गए हैं ये धूप के साये
खो गए हैं ये धूप के साये
Shweta Soni
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
ओनिका सेतिया 'अनु '
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
अनिल कुमार
साहसी बच्चे
साहसी बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
था जब सच्चा मीडिया,
था जब सच्चा मीडिया,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फितरत
फितरत
Dr.Khedu Bharti
All you want is to see me grow
All you want is to see me grow
Ankita Patel
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
Shashi kala vyas
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
Anis Shah
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
Harminder Kaur
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
कभी कभी आईना भी,
कभी कभी आईना भी,
शेखर सिंह
🙅आज का विज्ञापन🙅
🙅आज का विज्ञापन🙅
*Author प्रणय प्रभात*
"कभी-कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
Praveen Sain
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
कार्तिक नितिन शर्मा
Loading...