Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2024 · 1 min read

बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स

बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्सर अपराधियो को हमने चिल्लाते और नजर चुराते हुए देखा है।
RJ Anand Prajapati

82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
Jitendra kumar
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
वक्त
वक्त
Jogendar singh
अटल-अवलोकन
अटल-अवलोकन
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
अंतिम एहसास
अंतिम एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
.....
.....
शेखर सिंह
मकर संक्रांति -
मकर संक्रांति -
Raju Gajbhiye
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
विगुल क्रांति का फूँककर, टूटे बनकर गाज़ ।
जगदीश शर्मा सहज
संदेह से बड़ा
संदेह से बड़ा
Dr fauzia Naseem shad
* गूगल वूगल *
* गूगल वूगल *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
क्या है मोहब्बत??
क्या है मोहब्बत??
Skanda Joshi
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
Vijay kumar Pandey
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वतन-ए-इश्क़
वतन-ए-इश्क़
Neelam Sharma
"बेचारा किसान"
Dharmjay singh
ये तो मुहब्बत में
ये तो मुहब्बत में
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
Paras Nath Jha
अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस आज......
अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस आज......
*Author प्रणय प्रभात*
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
उल्फत के हर वर्क पर,
उल्फत के हर वर्क पर,
sushil sarna
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
आते ही ख़याल तेरा आँखों में तस्वीर बन जाती है,
डी. के. निवातिया
चांद सितारे टांके हमने देश की तस्वीर में।
चांद सितारे टांके हमने देश की तस्वीर में।
सत्य कुमार प्रेमी
"स्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
"कुछ अनकही"
Ekta chitrangini
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
*जमाना बदल गया (छोटी कहानी)*
*जमाना बदल गया (छोटी कहानी)*
Ravi Prakash
Loading...