Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2023 · 1 min read

बेरोज़गारी

रोटी, कपड़ा और
मकान नहीं है
मेरे पास जीने का
सामान नहीं है…
(१)
मुझे
काम नहीं है
क्योंकि
नाम नहीं है
मेरा
नाम नहीं है
क्योंकि
काम नहीं है…
(२)
कहीं
मान नहीं है
क्योंकि
दाम नहीं है
मेरा
दाम नहीं है
क्योंकि
मान नहीं है…
(३)
मुझमें
जान नहीं है
क्योंकि
खान नहीं है
मेरा
खान नहीं है
क्योंकि
जान नहीं है…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#नाकाम #बदनाम #मायूस #शायर
#असफल #कवि #गुमनाम #संघर्ष
#बेरोजगार #मजदूरचौक #बेकार
#गीतकार #लेखक #रोजीरोटी #दर्द
#bollywood #lyricist #lyrics
#sad #failure #struggler #poet
#labourChauk #jobless #youth

Language: Hindi
Tag: गीत
283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
Keshav kishor Kumar
कि हम मजदूर है
कि हम मजदूर है
gurudeenverma198
"ज्यादा मिठास शक के घेरे में आती है
Priya princess panwar
दुआ को असर चाहिए।
दुआ को असर चाहिए।
Taj Mohammad
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कविता जो जीने का मर्म बताये
कविता जो जीने का मर्म बताये
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
श्री राम जय राम।
श्री राम जय राम।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
STAY SINGLE
STAY SINGLE
Saransh Singh 'Priyam'
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
कवि दीपक बवेजा
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
*खादिम*
*खादिम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
निकलती हैं तदबीरें
निकलती हैं तदबीरें
Dr fauzia Naseem shad
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
वो क्या गिरा
वो क्या गिरा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ जिजीविषा : जीवन की दिशा।
■ जिजीविषा : जीवन की दिशा।
*Author प्रणय प्रभात*
फिर से आयेंगे
फिर से आयेंगे
प्रेमदास वसु सुरेखा
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
किसी से मत कहना
किसी से मत कहना
Shekhar Chandra Mitra
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
Nitesh Kumar Srivastava
सारा रा रा
सारा रा रा
Sanjay ' शून्य'
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
23/61.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/61.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
पत्नी रुष्ट है
पत्नी रुष्ट है
Satish Srijan
सियासत हो
सियासत हो
Vishal babu (vishu)
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
Ankita Patel
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Loading...