Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2022 · 1 min read

बेरोजगार आशिक

अब कवनो अच्छा घर के हमके
जब छोकरिए नइखे मिले वाला!
पढ़ला-लिखला से का फायदा
जब नौकरिए नइखे मिले वाला!
हम चाहे जेतना चुन लीं इहां
इल्म औरी हुनर के फूल बाकिर!
ओकरा के रखे लायक कवनो
अब टोकरिए नइखे मिले वाला!
#bhojpuri #job #निजीकरण #बेरोजगार_आशिक #love #काम #privatisation #नौकरी #हक

184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज भगवान का बनाया हुआ
आज भगवान का बनाया हुआ
प्रेमदास वसु सुरेखा
कलाकार
कलाकार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
(22) एक आंसू , एक हँसी !
(22) एक आंसू , एक हँसी !
Kishore Nigam
"राज़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्रदर्शन
प्रदर्शन
Sanjay ' शून्य'
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
जिन्दगी कुछ इस कदर रूठ गई है हमसे
श्याम सिंह बिष्ट
“यादों के झरोखे से”
“यादों के झरोखे से”
पंकज कुमार कर्ण
कितनी आवाज़ दी
कितनी आवाज़ दी
Dr fauzia Naseem shad
"संविधान"
Slok maurya "umang"
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
Dr Pranav Gautam
कई खयालों में...!
कई खयालों में...!
singh kunwar sarvendra vikram
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Meera Singh
"क्रोध"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
* सत्य,
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
दोहा पंचक. . . . प्रेम
दोहा पंचक. . . . प्रेम
sushil sarna
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-528💐
💐प्रेम कौतुक-528💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैंने फत्ते से कहा
मैंने फत्ते से कहा
Satish Srijan
2542.पूर्णिका
2542.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कर पुस्तक से मित्रता,
कर पुस्तक से मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
Shalini Mishra Tiwari
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
■ जयंती पर नमन्
■ जयंती पर नमन्
*Author प्रणय प्रभात*
कहाँ समझते हैं ..........
कहाँ समझते हैं ..........
Aadarsh Dubey
Loading...