Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है……

बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है……
😄😅
गरीबी में खुद ही खुद का साथ निभाना पड़ता है…|

2 Likes · 270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#अब_यादों_में
#अब_यादों_में
*प्रणय प्रभात*
"मां की ममता"
Pushpraj Anant
स्वप्न बेचकर  सभी का
स्वप्न बेचकर सभी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हो गरीबी
हो गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज नींद है ,जो इंसान के कुछ समय के ल
दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज नींद है ,जो इंसान के कुछ समय के ल
Ranjeet kumar patre
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
कवि दीपक बवेजा
मन में संदिग्ध हो
मन में संदिग्ध हो
Rituraj shivem verma
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
पूर्वार्थ
नेता जी
नेता जी
Sanjay ' शून्य'
यह मत
यह मत
Santosh Shrivastava
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
मेघों का इंतजार है
मेघों का इंतजार है
VINOD CHAUHAN
घणो ललचावे मन थारो,मारी तितरड़ी(हाड़ौती भाषा)/राजस्थानी)
घणो ललचावे मन थारो,मारी तितरड़ी(हाड़ौती भाषा)/राजस्थानी)
gurudeenverma198
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
surenderpal vaidya
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
2398.पूर्णिका
2398.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
होली
होली
Neelam Sharma
संसार का स्वरूप (2)
संसार का स्वरूप (2)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कभी जब आपका दीदार होगा।
कभी जब आपका दीदार होगा।
सत्य कुमार प्रेमी
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
Manisha Manjari
"मौसम"
Dr. Kishan tandon kranti
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
कृष्णकांत गुर्जर
प्यार और विश्वास
प्यार और विश्वास
Harminder Kaur
निदामत का एक आँसू ......
निदामत का एक आँसू ......
shabina. Naaz
अपनी पहचान का मकसद
अपनी पहचान का मकसद
Shweta Soni
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
Vijay Nagar
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
कवि रमेशराज
Loading...