Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

बेमेल कथन, फिजूल बात

बैर कराते मन्दिर मस्जिद।
मेल कराती मधुशाला।

– कुछ इस तरह की बेहूदी पंक्तियाँ हरिवंश राय बच्चन ने कविता के नाम पर लिख मारी है।
यह भी कोई चिंतन है? सच तो यह है कि धर्म के पाखंड स्थलों एवं शराब के नशाघरों, दोनों में ही कोई प्रिय-अप्रिय शक्ति नहीं है। मदर टेरेसा, सिस्टर निर्मला तो एक्सट्रीम आस्थावान ही थीं पर बनाने के अलावा इनने कुछ किया? धर्म की राजनीति करने वाले बदमाश एवं धर्मठेकेदारों के चलते ये झगड़े होते हैं। दूसरी तरफ, शराबघर अपने आप में मतवाला-मदहोश बनाने का कोई मदकोष तो नहीं ही है। आप नियंत्रित मात्रा में नशा का सेवन करें तो नहीं बहकेंगे। हाँ, मेल का नायाब प्रपंच जो यहाँ बच्चन ने शराब अड्डे की बड़ाई में रचा है वह तथ्यहीन तो है ही भौंडा और बचकाना भी है।

शराब एवं धर्म तभी बहकाता है जब आप इनका अनियंत्रित सेवन करते हैं!

और, सुन रहे हो न मन्दिर-मस्जिद के धर्मठेकेदारो! इस बच्चन-वचन को!!! तुम्हें यहाँ कितना बड़ा चैलेन्ज मिला है, और, कैसे चर्चों-गुरुद्वारों को बक्श दिया है गुरु कवि ने?

और, आप भी सुन रहे हो न अनाप-शनाप विज्ञापनों से छप्पर-फाड़ कमाई कर रहे बिग बी! शराब के अड्डों का कैसा मुफ्त विज्ञापन कर गये हैं आपके पिताश्री!

Language: Hindi
Tag: लेख
106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तू याद कर
तू याद कर
Shekhar Chandra Mitra
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
ओनिका सेतिया 'अनु '
बसंत आने पर क्या
बसंत आने पर क्या
Surinder blackpen
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कहां से लाऊं शब्द वो
कहां से लाऊं शब्द वो
Seema gupta,Alwar
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
gurudeenverma198
* धीरे धीरे *
* धीरे धीरे *
surenderpal vaidya
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्या लिखूँ....???
क्या लिखूँ....???
Kanchan Khanna
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"तारीफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
कवि के हृदय के उद्गार
कवि के हृदय के उद्गार
Anamika Tiwari 'annpurna '
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
केशों से मुक्ता गिरे,
केशों से मुक्ता गिरे,
sushil sarna
*
*"सदभावना टूटे हृदय को जोड़ती है"*
Shashi kala vyas
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
Rj Anand Prajapati
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
"" *नारी* ""
सुनीलानंद महंत
3027.*पूर्णिका*
3027.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ए मेरे चांद ! घर जल्दी से आ जाना
ए मेरे चांद ! घर जल्दी से आ जाना
Ram Krishan Rastogi
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
निहारने आसमां को चले थे, पर पत्थरों से हम जा टकराये।
Manisha Manjari
*मासूम पर दया*
*मासूम पर दया*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
,,
,,
Sonit Parjapati
आज के दौर
आज के दौर
$úDhÁ MãÚ₹Yá
..
..
*प्रणय प्रभात*
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
Loading...