Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

बेफिक्र तेरे पहलू पे उतर आया हूं मैं, अब तेरी मर्जी….

बेफिक्र तेरे पहलू पे उतर आया हूं मैं, अब तेरी मर्जी….
तू चाहे समेटे या फिर वापस बिखेर दे!!

©️ डॉ. शशांक शर्मा “रईस”

41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
डॉ अरुण कुमार शास्त्री / drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
" फेसबूक फ़्रेंड्स "
DrLakshman Jha Parimal
बहुत टूट के बरसा है,
बहुत टूट के बरसा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Teacher
Teacher
Rajan Sharma
खो दोगे
खो दोगे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
ओसमणी साहू 'ओश'
महादेव का भक्त हूँ
महादेव का भक्त हूँ
लक्ष्मी सिंह
2836. *पूर्णिका*
2836. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
*शहर की जिंदगी*
*शहर की जिंदगी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
योग
योग
जगदीश शर्मा सहज
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*हो न लोकतंत्र की हार*
*हो न लोकतंत्र की हार*
Poonam Matia
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
"बदबू"
Dr. Kishan tandon kranti
सेर (शृंगार)
सेर (शृंगार)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
Mahendra Narayan
नाराज नहीं हूँ मैं   बेसाज नहीं हूँ मैं
नाराज नहीं हूँ मैं बेसाज नहीं हूँ मैं
Priya princess panwar
■ बड़े काम की बात।।
■ बड़े काम की बात।।
*प्रणय प्रभात*
Let yourself loose,
Let yourself loose,
Dhriti Mishra
दगा बाज़ आसूं
दगा बाज़ आसूं
Surya Barman
बेटा
बेटा
अनिल "आदर्श"
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
शेखर सिंह
Loading...