Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2024 · 1 min read

बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी

हम उड़ते है स्वच्छंद
खुले नीले ऊंचे आसमान में,
हवाओं से दोस्ती करते है,
पेड़ों पर बैठते है,
फूलों से बातें करते है,
हमारे गीतों में मीठा राग है,
और नृत्य में ताल है,
हम उड़ते हैं ऊँची पहाड़ियों पर,
पार करते हैं गहरी घाटियाँ,
हर लम्हे को जीते है,
बिना किसी चिंता या डर के,
जहाँ भी जाते हैं,
वहाँ खुशियाँ फैलाते हैं,
हर चेहरे पे मुस्कान लाते है,
हम नहीं सोचते बाद की,
हम जीते हैं आज में,
हम बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी है।

– सुमन मीना (अदिति)
लेखिका एवं साहित्यकार

1 Like · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िन्दगी की राह
ज़िन्दगी की राह
Sidhartha Mishra
" चले आना "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Shyam Sundar Subramanian
रामबाण
रामबाण
Pratibha Pandey
*हमेशा जिंदगी की एक, सी कब चाल होती है (हिंदी गजल)*
*हमेशा जिंदगी की एक, सी कब चाल होती है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन  में  नव  नाद ।
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन में नव नाद ।
sushil sarna
झूला....
झूला....
Harminder Kaur
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
Suryakant Dwivedi
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
हुआ अच्छा कि मजनूँ
हुआ अच्छा कि मजनूँ
Satish Srijan
वो किताब अब भी जिन्दा है।
वो किताब अब भी जिन्दा है।
दुर्गा प्रसाद नाग
वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है।
वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है।
Faiza Tasleem
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
मैं तुम्हें यूँ ही
मैं तुम्हें यूँ ही
हिमांशु Kulshrestha
हमारी शाम में ज़िक्र ए बहार था ही नहीं
हमारी शाम में ज़िक्र ए बहार था ही नहीं
Kaushal Kishor Bhatt
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
प्रेम दिवानों  ❤️
प्रेम दिवानों ❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ जितनी जल्दी समझ लो उतना बढ़िया।
■ जितनी जल्दी समझ लो उतना बढ़िया।
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ दुआ की जाए।
कुछ दुआ की जाए।
Taj Mohammad
it's a generation of the tired and fluent in silence.
it's a generation of the tired and fluent in silence.
पूर्वार्थ
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
तुम पंख बन कर लग जाओ
तुम पंख बन कर लग जाओ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जीवन
जीवन
नन्दलाल सुथार "राही"
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
कवि दीपक बवेजा
सोशलमीडिया की दोस्ती
सोशलमीडिया की दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
हम भी बहुत अजीब हैं, अजीब थे, अजीब रहेंगे,
हम भी बहुत अजीब हैं, अजीब थे, अजीब रहेंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं तुम और हम
मैं तुम और हम
Ashwani Kumar Jaiswal
विश्व वरिष्ठ दिवस
विश्व वरिष्ठ दिवस
Ram Krishan Rastogi
Loading...