Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2017 · 1 min read

बेटी

??बेटी ??
बेटी है नीर नर्मदा का ,
बेटी गंगा जल पावन है ,
बेटी से शोभा है घर की ,
बेटी से घर का गुलशन है ,
बेटी देवी कल्याणी है ,
बेटी बिन कल्याण नहीँ होगा ,
बेटी कॊ मान नहीँ दोगे ,
अपना सम्मान नहीँ होगा ॥
बेटी झाँसी की रानी है ,
अंग्रेजों से लड़ जाती है ,
बेटी ही सुनीता विलियम है ,
जो अंतरिक्ष तक जाती है ,
बेटी की महिमा कॊ समझो ,
बिन इसके काम नहीँ होगा ,
बेटी कॊ मान नहीँ दोगे ,
अपना सम्मान नहीँ होगा ॥
बेटी ही रानी पदमिनी है ,
जौहर करके दिखलाती है ,
बेटी ही दुर्गावती भी है ,
मुगलों कॊ मार भगाती है ,
बेटी के शौर्य पराक्रम बिन ,
इतिहास तमाम नहीँ होगा ,
बेटी कॊ मान नहीँ दोगे ,
अपना सम्मान नहीँ होगा ॥
अपना सम्मान नहीँ होगा ॥
अपना सम्मान नहीँ होगा ॥
रचनाकार :दीपक गुप्ता “दीप ”
सहायक अध्यापक P/S भमका
अध्यक्ष : सालीचौका साहित्य परिषद
सालीचौका

Language: Hindi
643 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पावन सावन मास में
पावन सावन मास में
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
gurudeenverma198
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
■आओ करें दुआएं■
■आओ करें दुआएं■
*Author प्रणय प्रभात*
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
पैसा
पैसा
Kanchan Khanna
"अनमोल सौग़ात"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ज़माने   को   समझ   बैठा,  बड़ा   ही  खूबसूरत है,
ज़माने को समझ बैठा, बड़ा ही खूबसूरत है,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*आओ-आओ इस तरह, अद्भुत मधुर वसंत ( कुंडलिया )*
*आओ-आओ इस तरह, अद्भुत मधुर वसंत ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
*खादिम*
*खादिम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
बने महब्बत में आह आँसू
बने महब्बत में आह आँसू
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बुद्ध धम्म में चलें
बुद्ध धम्म में चलें
Buddha Prakash
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
जगदीश लववंशी
पाया तो तुझे, बूंद सा भी नहीं..
पाया तो तुझे, बूंद सा भी नहीं..
Vishal babu (vishu)
श्रोता के जूते
श्रोता के जूते
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
विश्व स्वास्थ्य दिवस पर....
विश्व स्वास्थ्य दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पल भर कि मुलाकात
पल भर कि मुलाकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
Anand Kumar
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बिन सूरज महानगर
बिन सूरज महानगर
Lalit Singh thakur
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh
शराफ़त के दायरों की
शराफ़त के दायरों की
Dr fauzia Naseem shad
💐 Prodigy Love-33💐
💐 Prodigy Love-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल का रोग
दिल का रोग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...