Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

बेटी

एक प्यारी मुस्कान से, सबके दिल पर छा जाती है
होती है दिल का टुकड़ा, पराया धन कहलाती है

तेरे गिरते हर आंसू से, सबका मन दुख जाता है
तेरी एक हँसी के ख़ातिर, मन लाख जतन कर जाता है

तेरी पायल की छनछन ही, इस तात का दिल धड़काती है
तेरी हर एक अदा निर्मल, तू सबके दिल को लुभाती है

तेरे आने से घर आंगन, सब पावन धाम हो जाता है
तुझ से घर में रौनक लगती, तुझसे दुख हर जाता है ।

!! आकाशवाणी !!

Language: Hindi
1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
'अशांत' शेखर
हिंदी गजल
हिंदी गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
और चौथा ???
और चौथा ???
SHAILESH MOHAN
*इश्क़ न हो किसी को*
*इश्क़ न हो किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"बड़ी चुनौती ये चिन्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक समीक्षा*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक समीक्षा*
Ravi Prakash
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
देश काल और परिस्थितियों के अनुसार पाखंडियों ने अनेक रूप धारण
विमला महरिया मौज
होली का रंग
होली का रंग
मनोज कर्ण
धर्म नहीं, विज्ञान चाहिए
धर्म नहीं, विज्ञान चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
💐अज्ञात के प्रति-88💐
💐अज्ञात के प्रति-88💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सारे रिश्तों से
सारे रिश्तों से
Dr fauzia Naseem shad
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ Rãthí
"समझाइश "
Yogendra Chaturwedi
रमजान में....
रमजान में....
Satish Srijan
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
Anand Kumar
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
2677.*पूर्णिका*
2677.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
Santosh Soni
समस्त वंदनीय, अभिनन्दनीय मातृशक्ति को अखंड सौभाग्य के प्रतीक
समस्त वंदनीय, अभिनन्दनीय मातृशक्ति को अखंड सौभाग्य के प्रतीक
*Author प्रणय प्रभात*
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चुलियाला छंद ( चूड़मणि छंद ) और विधाएँ
चुलियाला छंद ( चूड़मणि छंद ) और विधाएँ
Subhash Singhai
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
Rj Anand Prajapati
"बाजरे का जायका"
Dr Meenu Poonia
नारी
नारी
Acharya Rama Nand Mandal
The emotional me and my love
The emotional me and my love
Sukoon
बेइंतहा सब्र बक्शा है
बेइंतहा सब्र बक्शा है
Dheerja Sharma
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...