Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

बेटी

बेटी घर की सुकून होती है,
बेटी माँ को जान होती है,
पापा की प्राण होती है,
बेटी हर घर की मान होती है।।

जब बेटी पैदा होती है तब,
घर में खुशी का माहौल होता है,
जब बेटी बड़ी हो जाति है तब,
घर में उससे बिछड़ने का दुख होता है।।

बेटी का पिता के प्रति प्यार,
मा के जैसा होता है,
जब पिता की तबियत बिगड़ जाती है,
तब एक बच्चे की तरह वो अपने पिता की देखभाल करती है।।

बेटी अनमोल तोहफा है ईश्वर का,
सम्भालो बड़े प्यार से इसे,
क्योंकि हर किसी को नसीब नहीं होता,
एक बेटी का पिता बनना।।

सच में बेटी घर की सुकून होती है,
हर घर की मान होती है बेटी।।

स्वरचित
अनुराग श्रीवास्तव “अंकित”

Language: Hindi
1 Like · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शहनाई की सिसकियां
शहनाई की सिसकियां
Shekhar Chandra Mitra
इंद्रधनुष सी जिंदगी
इंद्रधनुष सी जिंदगी
Dr Parveen Thakur
सैनिक
सैनिक
Mamta Rani
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
Ashwani Kumar Jaiswal
कल की चिंता छोड़कर....
कल की चिंता छोड़कर....
जगदीश लववंशी
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*हनुमान प्रसाद पोद्दार (कुंडलिया)*
*हनुमान प्रसाद पोद्दार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"धरती गोल है"
Dr. Kishan tandon kranti
आस भरी आँखें , रोज की तरह ही
आस भरी आँखें , रोज की तरह ही
Atul "Krishn"
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
गुप्तरत्न
मोमबत्ती जब है जलती
मोमबत्ती जब है जलती
Buddha Prakash
आजादी की चाहत
आजादी की चाहत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बुंदेली दोहा- पैचान१
बुंदेली दोहा- पैचान१
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सत्य का संधान
सत्य का संधान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
रास्तों पर चलने वालों को ही,
रास्तों पर चलने वालों को ही,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
■ यूज़ कर सकते हैं, स्टोरेज़ नहीं। मज़ा लें पूरी तरह हर पल का।
■ यूज़ कर सकते हैं, स्टोरेज़ नहीं। मज़ा लें पूरी तरह हर पल का।
*प्रणय प्रभात*
.............सही .......
.............सही .......
Naushaba Suriya
वैशाख की धूप
वैशाख की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरा दिन भी आएगा !
मेरा दिन भी आएगा !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
2964.*पूर्णिका*
2964.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
डॉ.सीमा अग्रवाल
वादा  प्रेम   का  करके ,  निभाते  रहे   हम।
वादा प्रेम का करके , निभाते रहे हम।
Anil chobisa
तुमसे करता हूँ मोहब्बत मैं जैसी
तुमसे करता हूँ मोहब्बत मैं जैसी
gurudeenverma198
*”ममता”* पार्ट-1
*”ममता”* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
Loading...