Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

बेटी

घर में उजियारा करे, बेटी जैसे धूप
माँ की ही छाया लगे, माँ का लेकर रूप
माँ का लेकर रूप, लगे है सबको प्यारी
पाती भी है लाड़, पिता की राजकुमारी
कहे ‘अर्चना’ बात, धुरी रिश्तों की बनकर
घर हो या ससुराल बनाती ये घर को घर

25-06-2023
डॉ अर्चना गुप्ता

10 Likes · 1 Comment · 2195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
माँ
माँ
Harminder Kaur
"कितना कठिन प्रश्न है यह,
शेखर सिंह
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
Anil Mishra Prahari
कल बहुत कुछ सीखा गए
कल बहुत कुछ सीखा गए
Dushyant Kumar Patel
दो पल देख लूं जी भर
दो पल देख लूं जी भर
आर एस आघात
यह ज़िंदगी
यह ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
लालची नेता बंटता समाज
लालची नेता बंटता समाज
विजय कुमार अग्रवाल
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्
शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्
कवि दीपक बवेजा
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
AmanTv Editor In Chief
हमको नहीं गम कुछ भी
हमको नहीं गम कुछ भी
gurudeenverma198
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
Surinder blackpen
जय श्रीराम
जय श्रीराम
Pratibha Pandey
3246.*पूर्णिका*
3246.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
नेपाल के लुंबनी में सफलतापूर्ण समापन हुआ सार्क समिट एवं गौरव पुरुस्कार समारोह
नेपाल के लुंबनी में सफलतापूर्ण समापन हुआ सार्क समिट एवं गौरव पुरुस्कार समारोह
The News of Global Nation
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
Shweta Soni
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
Satish Srijan
ଅର୍ଦ୍ଧାଧିକ ଜୀବନର ଚିତ୍ର
ଅର୍ଦ୍ଧାଧିକ ଜୀବନର ଚିତ୍ର
Bidyadhar Mantry
देह धरे का दण्ड यह,
देह धरे का दण्ड यह,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
बाल कविता : काले बादल
बाल कविता : काले बादल
Rajesh Kumar Arjun
मेरी शक्ति
मेरी शक्ति
Dr.Priya Soni Khare
हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।
हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#कविता
#कविता
*Author प्रणय प्रभात*
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
छल छल छलके आँख से,
छल छल छलके आँख से,
sushil sarna
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
Loading...