Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2022 · 1 min read

बेटी दिवस की बधाई

।।बेटियाँ।।
घर आंगन में खुशियों की राज बेटियाँ
पपीहे के बोलीयों की आवाज़ बेटियाँ
पापा के पगड़ी की हैं सरताज़ बेटीयां
घर परिवार के मान की हैं बात बेटियाँ,

बेटियाँ घर की लक्ष्मी हैं, ये बात जान लो
इनसे सुघर गृहस्थी हैं, ये बात मान लो
रख कर ख़याल माँ बाप और सबका
आँखों में बसती हैं, बस प्यार मांग लो ,

बन के वीरांगना सी तलवार बेटियाँ
इज़्ज़त ख़ातिर अपनी हो, कटार बेटियाँ
डूबती घर गृहस्थी की पतवार बेटियाँ
पार लगा दे नैया, ओ खेवनहार बेटियाँ।।
©बिमल तिवारी “आत्मबोध”
देवरिया उत्तर प्रदेश

1 Like · 144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिया बिन सावन की बात क्या करें
पिया बिन सावन की बात क्या करें
Devesh Bharadwaj
श्री राम आ गए...!
श्री राम आ गए...!
भवेश
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संत गाडगे संदेश
संत गाडगे संदेश
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कुंडलिया - रंग
कुंडलिया - रंग
sushil sarna
मेरे पापा
मेरे पापा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपनों का दीद है।
अपनों का दीद है।
Satish Srijan
परिवार
परिवार
नवीन जोशी 'नवल'
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्तों को तू तोल मत,
रिश्तों को तू तोल मत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हरा-भरा बगीचा
हरा-भरा बगीचा
Shekhar Chandra Mitra
खिलौने वो टूट गए, खेल सभी छूट गए,
खिलौने वो टूट गए, खेल सभी छूट गए,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
मुस्कुराना चाहते हो
मुस्कुराना चाहते हो
surenderpal vaidya
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
एक पल सुकुन की गहराई
एक पल सुकुन की गहराई
Pratibha Pandey
तहजीब राखिए !
तहजीब राखिए !
साहित्य गौरव
अब हक़ीक़त
अब हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" जब तुम्हें प्रेम हो जाएगा "
Aarti sirsat
*पुरस्कार का पात्र वही, जिसका संघर्ष नवल हो (मुक्तक)*
*पुरस्कार का पात्र वही, जिसका संघर्ष नवल हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
Sanjay ' शून्य'
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
Dr MusafiR BaithA
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते  कहीं वे और है
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते कहीं वे और है
DrLakshman Jha Parimal
मुश्किल से मुश्किल हालातों से
मुश्किल से मुश्किल हालातों से
Vaishaligoel
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
"असली-नकली"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...