Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

बेटियां

कहते हैं बेटियां होती हैं पराया धन, जो सदा पास नहीं रहती
वो बेटियां जो घर की धरोहर और दो कुलों की मर्यादा हैं
वो बेटियां तो कभी मन से भी पराई नहीं होतीं.

पितृकुल के संस्कारों को सहेजती, पतिकुल की आन-बान को संभालती
अपने आंसुओं को सबसे छिपाती, सदा मुस्कुराहट का गहना पहनती हैं
वो बेटियां भला पराई कैसे हो सकती हैं.

बेटियां जो मां का दर्द समझती हैं, उसकी सीख को पल्लू में बांध
पतिगृह में आते ही संस्कारों की पोटली खोल ,अचानक बच्ची से बड़ी बन जाती हैं.
वो बेटियां आखिर पराई क्यूं कहलाती हैं

कभी बेटियों से पूछ कर देखो, पराया शब्द कितना दर्द देता है
पुत्र वंशबेल और पुत्री पराया धन ,यह विभेद कितना दंश देता है

पूछती हूं मैं खुद से यह प्रश्न, कि क्या हम सचमुच शिक्षित हो गए हैं
या शिक्षा की आड़ में रूढ़ियों से जकड़े, अभी भी परंपराओं की सलीब ढो रहे हैं.

214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Madhavi Srivastava
View all
You may also like:
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
जेठ कि भरी दोपहरी
जेठ कि भरी दोपहरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*अध्याय 9*
*अध्याय 9*
Ravi Prakash
2803. *पूर्णिका*
2803. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
कवि दीपक बवेजा
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अनारकली भी मिले और तख़्त भी,
अनारकली भी मिले और तख़्त भी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"तोल के बोल"
Dr. Kishan tandon kranti
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
ग़ज़ल _मुहब्बत के मोती , चुराए गए हैं ।
ग़ज़ल _मुहब्बत के मोती , चुराए गए हैं ।
Neelofar Khan
■ अवध की शाम
■ अवध की शाम
*प्रणय प्रभात*
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
Harminder Kaur
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
कृष्णकांत गुर्जर
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
देवर्षि नारद जी
देवर्षि नारद जी
Ramji Tiwari
"" *प्रताप* ""
सुनीलानंद महंत
फूल मोंगरा
फूल मोंगरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
धीरज रख ओ मन
धीरज रख ओ मन
Harish Chandra Pande
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
It's not always about the sweet kisses or romantic gestures.
It's not always about the sweet kisses or romantic gestures.
पूर्वार्थ
"मित्रों से जुड़ना "
DrLakshman Jha Parimal
डाकिया डाक लाया
डाकिया डाक लाया
Paras Nath Jha
विडम्बना और समझना
विडम्बना और समझना
Seema gupta,Alwar
Loading...