Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2023 · 1 min read

बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।

बेटियां देखती स्वप्न जो आज हैं।
नित्य भरती उसी हेतु परवाज हैं।
लक्ष्य हासिल सभी खूब हैं कर रही।
गूंजती हर जगह आज आवाज है।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ३१/१०/२०२३

2 Likes · 2 Comments · 110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
इंजी. संजय श्रीवास्तव
पुच्छल दोहा
पुच्छल दोहा
सतीश तिवारी 'सरस'
2827. *पूर्णिका*
2827. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
दिल से कह देना कभी किसी और की
दिल से कह देना कभी किसी और की
शेखर सिंह
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
Rohit yadav
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
Ragini Kumari
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
सपने देखने से क्या होगा
सपने देखने से क्या होगा
नूरफातिमा खातून नूरी
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मंदिर नहीं, अस्पताल चाहिए
मंदिर नहीं, अस्पताल चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
देते फल हैं सर्वदा , जग में संचित कर्म (कुंडलिया)
देते फल हैं सर्वदा , जग में संचित कर्म (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
Shyam Sundar Subramanian
"जीवन की परिभाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
बेदर्दी मौसम🙏
बेदर्दी मौसम🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
" दूरियां"
Pushpraj Anant
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
जगदीश शर्मा सहज
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
श्रीहर्ष आचार्य
स्कूल जाना है
स्कूल जाना है
SHAMA PARVEEN
खयालात( कविता )
खयालात( कविता )
Monika Yadav (Rachina)
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
Rainbow on my window!
Rainbow on my window!
Rachana
उत्कर्ष
उत्कर्ष
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
किताबों से ज्ञान मिलता है
किताबों से ज्ञान मिलता है
Bhupendra Rawat
*नींद आँखों में  ख़ास आती नहीं*
*नींद आँखों में ख़ास आती नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...