Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2017 · 1 min read

बेटियाँ

बेटियाँ

********

जिस घर में

जन्म लेती हैं बेटियाँ

वो घर गमक उठता है

उनके सुवास से

रजनी गंधा ,मौलश्री

मधुमालती ,मोंगरा से भी

गहरी होती है

उनके प्रेम की सुवास।

रंगोली और अल्पनाओं से

सजाकर घर

बेरंग जीवन में वे

भर देती हैं

रँग जीवन के।

बुलबुल सी चहकती बेटियाँ

सूने घर को बना देती हैं

उपवन

सच ही कहती थीं दादी

जिस आँगन में

खेलती नहीं बेटियाँ

जिस आँगन से

उठती नहीं डोली

वो अँगना भी रह जाता है

अन बियाहा और अकेला

सचमुच बेटी के साथ साथ

मां बाबा ,घर द्वार ,

ताल तलैया सब

सबके सब

बंध जाते है

इक बंधन में।

कहीं टूट न जाये

नेह डोर

इस डर से घबराकर वे

नित नई गॉंठ

लगाती हैं

***************

664 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
Ravi Prakash
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
कवि दीपक बवेजा
विचार
विचार
Godambari Negi
महाड़ सत्याग्रह
महाड़ सत्याग्रह
Shekhar Chandra Mitra
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
Anand Kumar
थोड़ा नमक छिड़का
थोड़ा नमक छिड़का
Surinder blackpen
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सरहद पर गिरवीं है
सरहद पर गिरवीं है
Satish Srijan
*जिंदगी*
*जिंदगी*
Harminder Kaur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
Shubham Pandey (S P)
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
💐प्रेम कौतुक-526💐
💐प्रेम कौतुक-526💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* अवधपुरी की ओर *
* अवधपुरी की ओर *
surenderpal vaidya
समाजसेवा
समाजसेवा
Kanchan Khanna
"Recovery isn’t perfect. it can be thinking you’re healed fo
पूर्वार्थ
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
अबला नारी
अबला नारी
Buddha Prakash
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
डी. के. निवातिया
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
Rj Anand Prajapati
अकेला
अकेला
Vansh Agarwal
#पंचैती
#पंचैती
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
डूबें अक्सर जो करें,
डूबें अक्सर जो करें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बाल कविता : बादल
बाल कविता : बादल
Rajesh Kumar Arjun
★भारतीय किसान ★
★भारतीय किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
चुनावी साल में
चुनावी साल में
*Author प्रणय प्रभात*
वो अपना अंतिम मिलन..
वो अपना अंतिम मिलन..
Rashmi Sanjay
Loading...