Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2024 · 1 min read

बेटा राजदुलारा होता है?

बेटा राजदुलारा होता है?
आख़िर क्यों बचपन तक ही सुकून की नींद सोता है?
आज का लेखन बेटों के लिए लिखा है
और हमने सब किरदार में इन बेटों को देखा है।

89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*आए लंका जीत कर, नगर अयोध्या-धाम(कुंडलिया)*
*आए लंका जीत कर, नगर अयोध्या-धाम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"प्रेम कभी नफरत का समर्थक नहीं रहा है ll
पूर्वार्थ
हम में,तुम में दूरी क्यू है
हम में,तुम में दूरी क्यू है
Keshav kishor Kumar
■ जानवर बनने का शौक़ और अंधी होड़ जगाता सोशल मीडिया।
■ जानवर बनने का शौक़ और अंधी होड़ जगाता सोशल मीडिया।
*प्रणय प्रभात*
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
Sapna Arora
यूं जरूरतें कभी माँ को समझाने की नहीं होती,
यूं जरूरतें कभी माँ को समझाने की नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पृथ्वी की दरारें
पृथ्वी की दरारें
Santosh Shrivastava
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
शेखर सिंह
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
वेदनामृत
वेदनामृत
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
क्या ईसा भारत आये थे?
क्या ईसा भारत आये थे?
कवि रमेशराज
गले से लगा ले मुझे प्यार से
गले से लगा ले मुझे प्यार से
Basant Bhagawan Roy
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मुर्दा समाज
मुर्दा समाज
Rekha Drolia
मुक्ति
मुक्ति
Amrita Shukla
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
हे अयोध्या नाथ
हे अयोध्या नाथ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
शीत की शब में .....
शीत की शब में .....
sushil sarna
शीर्षक – मां
शीर्षक – मां
Sonam Puneet Dubey
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
गुमनाम 'बाबा'
एक हसीं ख्वाब
एक हसीं ख्वाब
Mamta Rani
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
कवि दीपक बवेजा
अ-परिभाषित जिंदगी.....!
अ-परिभाषित जिंदगी.....!
VEDANTA PATEL
साँसें कागज की नाँव पर,
साँसें कागज की नाँव पर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Jatashankar Prajapati
Loading...