Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

*बेचारे नेता*

बेचारे नेता
नेता हमारे कितने अच्छे हैं
लगता जैसे भोले बच्चे हैं
पार्टियां इनको जान गई है
सही चेहरा पहचान गयीं है
कान खुले और जुवा मौन है
कल पूछेंगे आप कौन है?
दिशा नही कश्ती बदलेंगे
टिकट नही तो पार्टी बदलेंगे
जनता इनसे अघा गयी हो
फिर भी सेवा करके मानेंगे
नेता हमारे कितने अच्छे हैं
लगता जैसे भोले बच्चे हैं

63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पढ़ना जरूर
पढ़ना जरूर
पूर्वार्थ
जिन्दगी में
जिन्दगी में
लक्ष्मी सिंह
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शातिर दुनिया
शातिर दुनिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
डर - कहानी
डर - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
बीते साल को भूल जाए
बीते साल को भूल जाए
Ranjeet kumar patre
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
manjula chauhan
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अपनी क़ीमत
अपनी क़ीमत
Dr fauzia Naseem shad
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
Swami Ganganiya
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
Kishore Nigam
हो गई है भोर
हो गई है भोर
surenderpal vaidya
मां शारदे कृपा बरसाओ
मां शारदे कृपा बरसाओ
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
Sanjay ' शून्य'
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
Maroof aalam
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
कृष्णकांत गुर्जर
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
इतना रोई कलम
इतना रोई कलम
Dhirendra Singh
/// जीवन ///
/// जीवन ///
जगदीश लववंशी
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
संजय भाऊ!
संजय भाऊ!
*Author प्रणय प्रभात*
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
DrLakshman Jha Parimal
सावन बीत गया
सावन बीत गया
Suryakant Dwivedi
Loading...