Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

*बेचारी जर्सी 【कुंडलिया】*

बेचारी जर्सी 【कुंडलिया】
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
बेचारी जर्सी दिखी , अबकी बार उदास
जाते जाड़ों का हुआ ,कब खुलकर आभास
कब खुल कर आभास ,गर्मियाँ सीधे आईं
संदूकों में बंद , जर्सियाँ कब दिख पाईं
कहते रवि कविराय ,चक्र ऋतुओं का भारी
अशुभ दिखा संकेत , बिना जर्सी बेचारी
————————————————-
जर्सी = आधी बाँह का स्वेटर
————————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
प्रभु का प्राकट्य
प्रभु का प्राकट्य
Anamika Tiwari 'annpurna '
तमगा
तमगा
Bodhisatva kastooriya
सत्य तो सीधा है, सरल है
सत्य तो सीधा है, सरल है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
Atul "Krishn"
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
ये बेकरारी, बेखुदी
ये बेकरारी, बेखुदी
हिमांशु Kulshrestha
आक्रोश प्रेम का
आक्रोश प्रेम का
भरत कुमार सोलंकी
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
Ravi Prakash
मुकाम
मुकाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Men are just like books. Many will judge the cover some will
Men are just like books. Many will judge the cover some will
पूर्वार्थ
दर्द
दर्द
SHAMA PARVEEN
पंखा
पंखा
देवराज यादव
3451🌷 *पूर्णिका* 🌷
3451🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
Ansh
हिंदी दोहे-पुरवाई
हिंदी दोहे-पुरवाई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वैशाख की धूप
वैशाख की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ले चल मुझे उस पार
ले चल मुझे उस पार
Satish Srijan
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
कवि रमेशराज
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Don't pluck the flowers
Don't pluck the flowers
VINOD CHAUHAN
तेवर
तेवर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
اپنا پھر دینگے
اپنا پھر دینگے
Dr fauzia Naseem shad
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
कृष्णकांत गुर्जर
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
लक्ष्मी सिंह
दोहा पंचक. . . . . पत्नी
दोहा पंचक. . . . . पत्नी
sushil sarna
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
*प्रणय प्रभात*
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
Loading...