Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2024 · 1 min read

बूढ़ा बापू

60 वर्ष होते ही मेरा बापू
कितना मुस्कुराया था
उसमें भी वटवृक्ष की तरह
खडा बड़प्पन आया था
सीनियर सिटीजन का
हर जगह फायदा उठाया था
यात्राओं में तो 40 प्रतिशत
छूट का फायदा उठाया था
कुछ दिन काम ना करने पर
कितना आराम पाया था
लेकिन थोड़े ही दिनों में
एक नया बदलाव आया था
कभी दूध वाले कभी सब्जी वाले
कभी राशन की दुकान पर
उसे लाइन में खड़ा पाया था
मेरा बापू बूढ़ा हो गया था
जो कभी लिफ्ट से ना आया था
उसे आज सीढ़ियों में पस्त पाया था
कभी उसने मीठा पर मन चलाया था
शकर बढ़ जाएगी सब ने यही बताया था
पोते पोतियों को जो डांटा करता था
आज उन्हीं से कितनी डांट खाया था
मेरा बापू अब बूढ़ा हो आया था
गाड़ी में जो कभी ताव से
आगे बैठा करता था
आज उसे गुमसुम सा पीछे पाया था
आज मेरा बापू बूढ़ा हो आया था
जो कभी गुर्रा कर चलता था
सारा घर उसे डरा करता था
वह आज सहमा सहमा सा आया था
मां का साथ भी उसके भाग्य में ना आया था
अकेलेपन को उसने कैसे गले लगाया था
वृद्धा आश्रम का डर दिल मे जो समाया था
मेरा बापू आज बूढ़ा जो हो आया था
मौलिक एवं स्वरचित
मधु शाह

1 Like · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3154.*पूर्णिका*
3154.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
रेशम की डोर राखी....
रेशम की डोर राखी....
राहुल रायकवार जज़्बाती
गुत्थियों का हल आसान नही .....
गुत्थियों का हल आसान नही .....
Rohit yadav
🌹जिन्दगी🌹
🌹जिन्दगी🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
शिक्षित बनो शिक्षा से
शिक्षित बनो शिक्षा से
gurudeenverma198
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
DrLakshman Jha Parimal
उड़ान ~ एक सरप्राइज
उड़ान ~ एक सरप्राइज
Kanchan Khanna
श्याम बाबा भजन अरविंद भारद्वाज
श्याम बाबा भजन अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
*जीता हमने चंद्रमा, खोज चल रही नित्य (कुंडलिया )*
*जीता हमने चंद्रमा, खोज चल रही नित्य (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
मैं हूँ कौन ? मुझे बता दो🙏
मैं हूँ कौन ? मुझे बता दो🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चीर हरण ही सोचते,
चीर हरण ही सोचते,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सांत्वना
सांत्वना
भरत कुमार सोलंकी
सच्ची  मौत
सच्ची मौत
sushil sarna
दिनकर/सूर्य
दिनकर/सूर्य
Vedha Singh
मां के शब्द चित्र
मां के शब्द चित्र
Suryakant Dwivedi
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
Manisha Manjari
रस्म ए उल्फ़त में वफ़ाओं का सिला
रस्म ए उल्फ़त में वफ़ाओं का सिला
Monika Arora
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
■ बन्द करो पाखण्ड...!!
■ बन्द करो पाखण्ड...!!
*प्रणय प्रभात*
मोहक हरियाली
मोहक हरियाली
Surya Barman
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गरीब–किसान
गरीब–किसान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...