Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2016 · 1 min read

बूँद ही अमृतमयी है, जो बुझादे प्यास प्यासे की ,विमल है( गीत) पोस्ट२९

बूँद ही अमृतमयी है
********************************** गीत
अंजुरी को बूँद ही अमृतमयी है,
जो बुझा दे प्यास प्यासे की , विमल है ।

कण्ठ प्यासे का नहीं यह सुख पाये
हो जतन कुछ ज़िदगी के गीत गायें
जोहता है बाट वह ऐसे मनुज की ,
नैराश्य को जो आस दे, मन सरल है।
अंजुरी को बूँद ही अमृतमयी है ।।

कॉचघर में टूटने न पायें यह मन
स्वर्णघर में ऊबने न पायें यह मन
ये अधिक ही ताप पा, लगते पिघलने
रश्मियों को चूमने की चाह, ” कमल” है
अंजुरी को बूँद ही अमृतमयी है ।
जो बुझा दे प्यास प्यासे की, विमल है।।है।।

——- जितेंद्रकमलआनंद

Language: Hindi
Tag: गीत
363 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसान और जवान
किसान और जवान
Sandeep Kumar
2394.पूर्णिका
2394.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जीवन में प्यास की
जीवन में प्यास की
Dr fauzia Naseem shad
आलस्य का शिकार
आलस्य का शिकार
Paras Nath Jha
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
प्रणय गीत
प्रणय गीत
Neelam Sharma
बावला
बावला
Ajay Mishra
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
स्नेह - प्यार की होली
स्नेह - प्यार की होली
Raju Gajbhiye
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल _ खुशी में खुश भी रहो ,और कामना भी करो।
ग़ज़ल _ खुशी में खुश भी रहो ,और कामना भी करो।
Neelofar Khan
11. एक उम्र
11. एक उम्र
Rajeev Dutta
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
Ashwani Kumar Jaiswal
इश्क़ लिखने पढ़ने में उलझ गया,
इश्क़ लिखने पढ़ने में उलझ गया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मायके से लौटा मन
मायके से लौटा मन
Shweta Soni
चुल्लू भर पानी में
चुल्लू भर पानी में
Satish Srijan
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
Ram Krishan Rastogi
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*चारों और मतलबी लोग है*
*चारों और मतलबी लोग है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ज़िंदगी हमें हर पल सबक नए सिखाती है
ज़िंदगी हमें हर पल सबक नए सिखाती है
Sonam Puneet Dubey
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
तेरी याद ......
तेरी याद ......
sushil yadav
शेर अर्ज किया है
शेर अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
कवि रमेशराज
त्यौहार
त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
Manju sagar
निदामत का एक आँसू ......
निदामत का एक आँसू ......
shabina. Naaz
Loading...