Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2017 · 1 min read

बूँदें

कुछ नटखट सी,
चुलबुली सी,
धरती के सीने पर थिरकती
बारिश की बूँदें,
ना जाने कितने राज़ छुपाये,
कितने रहस्य ख़ुद में समेटे
एक पहेली,
ख़ामोश सी हलचल ।

धीमे-धीमे, हौले-हौले,
कभी टूटते,कभी फूटते,
सुखी धरती की छाती पर विसर्जित,
विसारित,
धंसतीं,
धसकतीं,
धीमे पड़ती,
हर अणु न्यौछावरती ।

कभी रिसती,
कभी टपकती,
एक दूजे के पीछे चलती सी,
शांति से मचलती,
जलतरंग की तर्ज़ पर,
थामे बादलों के अल्फ़ाज़ों की डोरी,
धरती अम्बर को पुचकारती,
सीनों की आग बुझा जातीं ।

असंख्य जीवन में प्राण फूंकतीं,
धरती को सारगर्भित करती,
अर्थपूर्ण,
भावपूर्ण,
अनोखी रागिनी,
मधुरम काव्य,
आर्द्रता से छुती,
शीतल सी ठंडक पहुँचाती ।

बूँदों का निर्मल तराना,
स्वर माधुर्य से से ओत प्रोत गाना,
श्यामल से नीरद दल,
चुपके से झाँकता सूरज सोनल,
हवा के गीले आँचल में
छुपे हुए शुभ्र मोती से,
खुसफुसाते,दे जातें कई इंद्रधनुषी गीत,
सजा जाते हैं इंद्रधनुषी स्वप्न अनगिनत ।।

©मधुमिता

Language: Hindi
424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर तरफ खामोशी क्यों है
हर तरफ खामोशी क्यों है
VINOD CHAUHAN
2773. *पूर्णिका*
2773. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
Sanjay ' शून्य'
अंदर का चोर
अंदर का चोर
Shyam Sundar Subramanian
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
🌹मां ममता की पोटली
🌹मां ममता की पोटली
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रात का मायाजाल
रात का मायाजाल
Surinder blackpen
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कहाँ समझते हैं ..........
कहाँ समझते हैं ..........
Aadarsh Dubey
*मैं भी कवि*
*मैं भी कवि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■एक शेर और■
■एक शेर और■
*Author प्रणय प्रभात*
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
💐प्रेम कौतुक-554💐
💐प्रेम कौतुक-554💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसान का दर्द
किसान का दर्द
Tarun Singh Pawar
!! बच्चों की होली !!
!! बच्चों की होली !!
Chunnu Lal Gupta
अन्नदाता
अन्नदाता
Akash Yadav
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
*** सागर की लहरें....! ***
*** सागर की लहरें....! ***
VEDANTA PATEL
ग़ज़ल संग्रह 'तसव्वुर'
ग़ज़ल संग्रह 'तसव्वुर'
Anis Shah
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राकेश चौरसिया
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
आदिवासी
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
कोरोना चालीसा
कोरोना चालीसा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
#हाँसो_र_मुस्कान
#हाँसो_र_मुस्कान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जुबाँ चुप हो
जुबाँ चुप हो
Satish Srijan
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तेज दौड़े है रुके ना,
तेज दौड़े है रुके ना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सब अपने दुख में दुखी, किसे सुनाएँ हाल।
सब अपने दुख में दुखी, किसे सुनाएँ हाल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...