Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,

बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
मुझे कदमो के नीचे सीढ़ियां अच्छी नहीं लगती।

1 Like · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from प्रदीप कुमार गुप्ता
View all
You may also like:
"स्मृति"
Dr. Kishan tandon kranti
🙅आज का लतीफ़ा🙅
🙅आज का लतीफ़ा🙅
*Author प्रणय प्रभात*
मैं पुरखों के घर आया था
मैं पुरखों के घर आया था
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एकांत
एकांत
Monika Verma
तू ज़रा धीरे आना
तू ज़रा धीरे आना
मनोज कुमार
* भावना स्नेह की *
* भावना स्नेह की *
surenderpal vaidya
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
अमीर घरों की गरीब औरतें
अमीर घरों की गरीब औरतें
Surinder blackpen
आगाह
आगाह
Shyam Sundar Subramanian
3120.*पूर्णिका*
3120.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राजू और माँ
राजू और माँ
SHAMA PARVEEN
मेरी माँ
मेरी माँ
Pooja Singh
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अगर कभी मिलना मुझसे
अगर कभी मिलना मुझसे
Akash Agam
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
*......कब तक..... **
*......कब तक..... **
Naushaba Suriya
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
ruby kumari
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मन को समझाने
मन को समझाने
sushil sarna
शायद हम ज़िन्दगी के
शायद हम ज़िन्दगी के
Dr fauzia Naseem shad
ऐ ज़िंदगी।
ऐ ज़िंदगी।
Taj Mohammad
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
*अहं ब्रह्म अस्मि*
*अहं ब्रह्म अस्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लोकतंत्र में शक्ति
लोकतंत्र में शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रक़्श करतें हैं ख़यालात मेरे जब भी कभी..
रक़्श करतें हैं ख़यालात मेरे जब भी कभी..
Mahendra Narayan
*गाते गाथा राम की, मन में भर आह्लाद (कुंडलिया)*
*गाते गाथा राम की, मन में भर आह्लाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...