Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

बुरा समय था

बुरा समय था
पर सही राह दिखा गया
हमें क्या पता था
तुम्हारा पता
दिल के राह,
वो हमें तुमसे मिला गया

1 Like · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यह प्यार झूठा है
यह प्यार झूठा है
gurudeenverma198
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
"बिना पहचान के"
Dr. Kishan tandon kranti
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
sushil sarna
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Childhood is rich and adulthood is poor.
Childhood is rich and adulthood is poor.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*हूँ कौन मैं*
*हूँ कौन मैं*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
मां की महत्ता
मां की महत्ता
Mangilal 713
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
*Love filters down the soul*
*Love filters down the soul*
Poonam Matia
साधना से सिद्धि.....
साधना से सिद्धि.....
Santosh Soni
ये आप पर है कि ज़िंदगी कैसे जीते हैं,
ये आप पर है कि ज़िंदगी कैसे जीते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
आलोचना
आलोचना
Shekhar Chandra Mitra
#लिख_के_रख_लो।
#लिख_के_रख_लो।
*Author प्रणय प्रभात*
कुशादा
कुशादा
Mamta Rani
फ़र्ज़ ...
फ़र्ज़ ...
Shaily
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
उन कचोटती यादों का क्या
उन कचोटती यादों का क्या
Atul "Krishn"
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
VINOD CHAUHAN
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
राजनीति का नाटक
राजनीति का नाटक
Shyam Sundar Subramanian
खरा इंसान
खरा इंसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
Piyush Prashant
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
शेखर सिंह
जी हां मजदूर हूं
जी हां मजदूर हूं
Anamika Tiwari 'annpurna '
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...