Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2022 · 2 min read

बुद्ध या बुद्धू

हम लोग क्षुब्ध होते हैं…मुग्ध होते हैं.. क्रुद्ध होते है..बस बुद्ध नहीं हो पाते..
एक बूढ़ा आदमी ..एक शव ..एक बीमार आदमी..लगभग रोज देखते हैं लेकिन हमारी बुद्धि प्रबुद्ध नही होती, यह सिद्धार्थ बने रहना चाहती है….नही छोड़ना चाहती लालसा, विलासिता ,कामना , क्रोध, रोष, हिंसा, मोह..
यह समस्या हमारी अकेले की नही है, पूरी मानव प्रजाति की है।
हम जिसको सोचते है , वो हो जाते है।
जिसको खोजते हैं,वो हो जाते हैं।
जिसपर रीझते हैं, वो हो जाते हैं।
जिस पर खीजते हैं,वो भी हो जाते हैं।
बस ,
जिसको पूजते हैं,वो नही हो पाते।
या फिर जिसके बताए रास्ते पर चल नही पाते,उसका ही वास्ता देकर ,उसके बताए रास्ते पर कुंडी मार देते हैं।

जिसके बताए विचार समझ नही पाते , उन विचारों के रूप को ओढ़े हुए गीत बनाकर गाना ,कभी – कभी तो चिल्लाना भी शुरू कर देते हैं।

जिसके जीवन को प्रेरणा बनाना चाहिए ,उसके जीवन को छोड़ कर हम उसे ही बना देते हैं….कभी कभी मिट्टी का तो कभी पत्थर का..

जिसके चरित्र को हृदय में उतारना चाहिए और हम उसे ही उतार देते हैं … चित्र में , चर्च में, मंदिर में,मस्जिद में , गुरुद्वारे में।

हम लोगो में जीवन का ,विचारो का ,धर्म का ,ज्ञान का विश्लेषण करने की प्रवृत्ति समाप्त होती जा रही है और कहना ना होगा की अनुसरण करने की प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है।
अध्यात्म की नींव तो विचार और उनका विश्लेषण ही है।
लेकिन हम धर्म और अध्यात्म का नाता समाप्त कर , दोनो को विकृत और किसी तीसरे को तिरस्कृत कर रहे हैं, जिसे कभी – कभी नैतिकता भी कह देते हैं।
साथ ही इनके विलोम को यानी अधर्म और अनैतिकता को अपने जीवन से बहिष्कृत करने के बजाय पुरुस्कृत करने पर तुले हुए हैं।

बुद्ध मूर्तिपूजा के खिलाफ थे..
बुद्ध अनीश्वरवादी थे..
बुद्ध अहिंसा के पुजारी थे..
बुद्ध ने तृष्णा को शत्रु बताया..
हमने
बुद्ध की ही मूर्ति बना दी..
बुद्ध को ही ईश्वर बना दिया ..
तृष्णा को सखी बनाया और उसे तुष्ट करने के लिए युद्ध किए , हमने स्मारक बनाए बुद्ध के ,या फिर बनाया मखौल, उनके दिए ज्ञान का..!
बात विचार करने की है..।
राम को पूजने वाला राम के पदचिन्हों पर चलने की कोशिश करने लगे, पैगंबर की इबादत करने वाले उसके जीवन दर्शन को समझें,महावीर ,बुद्ध और नानक के अनुयायी हृदय में इनकी कोई एक बात भी उतार लें ना तो उस दिन सारी खुदाई की सच्ची पूजा होगी ।
नही तो हमारी संस्कृति का हिस्सा तो बन ही चुका है..
“जिसे बूझ ना सको।
उसे पूजना चालू कर दो।”
-©प्रिया मैथिल✍️

Language: Hindi
Tag: लेख
9 Likes · 7 Comments · 807 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी कभी खुद को खो देते हैं,
कभी कभी खुद को खो देते हैं,
Ashwini sharma
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
Shekhar Chandra Mitra
मोर
मोर
Manu Vashistha
*खाने के लाले पड़े, बच्चों की भरमार (कुंडलिया)*
*खाने के लाले पड़े, बच्चों की भरमार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दीवानगी
दीवानगी
Shyam Sundar Subramanian
भगवावस्त्र
भगवावस्त्र
Dr Parveen Thakur
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
Dr Tabassum Jahan
बसंत ऋतु में
बसंत ऋतु में
surenderpal vaidya
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Ram Babu Mandal
गुरु आसाराम बापू
गुरु आसाराम बापू
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बिखर गई INDIA की टीम बारी बारी ,
बिखर गई INDIA की टीम बारी बारी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सुनो सखी !
सुनो सखी !
Manju sagar
*
*"माँ"*
Shashi kala vyas
शादी की अंगूठी
शादी की अंगूठी
Sidhartha Mishra
2889.*पूर्णिका*
2889.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-174💐
💐प्रेम कौतुक-174💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भाग्य पर अपने
भाग्य पर अपने
Dr fauzia Naseem shad
कविता-हमने देखा है
कविता-हमने देखा है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
Anand Kumar
इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।
इश्क़ में भी हैं बहुत, खा़र से डर लगता है।
सत्य कुमार प्रेमी
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
*Author प्रणय प्रभात*
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
Kuldeep mishra (KD)
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
VINOD CHAUHAN
दिल  है  के  खो  गया  है   उदासियों  के  मौसम  में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
चींटी रानी
चींटी रानी
Dr Archana Gupta
पतझड़
पतझड़
ओसमणी साहू 'ओश'
क्या मैं थी
क्या मैं थी
Surinder blackpen
मौनता  विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
मौनता विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
DrLakshman Jha Parimal
"ऐ मेरे बचपन तू सुन"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...