Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

बुद्ध भक्त सुदत्त

सुदत्त नाम का एक व्यपारी,
धन दौलत से था संपन्न,
श्रावस्ती में गूँजति उसकी शोहरत,
सुदत्त से बन गया अनाथपिंडिका,
बुद्ध भक्त श्रेष्ठ।

बुद्ध की कीर्ति सर्वत्र् थी न्यारी,
जो सुनता था उपदेश बुद्ध का,
बुद्ध की करुणा हृदय में थी बसती ऐसे,
सुदत्त से बन गया अनाथपिंडिका ,
बुद्ध भक्त श्रेष्ठ।

राजगृह में व्यापार के भ्रमण पर,
अवगत् हुआ बुद्ध के आगमन का,
सुनने उपदेश निकट पहुँचा वह सेठ,
सुदत्त से बन गया अनाथपिंडिका ,
बुद्ध भक्त श्रेष्ठ।

कोशल नरेश जेत से क्रय किया भूमि शेष,
बिछा दिया भूमि पर मुद्राएं अनगिनत,
लुटा दिया प्रेम हृदय के खजाने का ढ़ेर ।
सुदत्त से बन गया अनाथपिंडिका ,
बुद्ध भक्त श्रेष्ठ।

किया जेतवन तथागत् बुद्ध को भेंंट,
जेतवन बिहार बना बुद्ध का धाम,
था महान सुदत्त ने किया जो दान,
सुदत्त से बन गया अनाथपिंडिका ,
बुद्ध भक्त श्रेष्ठ।

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

4 Likes · 1 Comment · 320 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
gurudeenverma198
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
Kirti Aphale
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
शेखर सिंह
बरसात हुई
बरसात हुई
Surya Barman
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
🌸अनसुनी 🌸
🌸अनसुनी 🌸
Mahima shukla
है नसीब अपना अपना-अपना
है नसीब अपना अपना-अपना
VINOD CHAUHAN
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
धैर्य और साहस
धैर्य और साहस
ओंकार मिश्र
गुनाह लगता है किसी और को देखना
गुनाह लगता है किसी और को देखना
Trishika S Dhara
ఇదే నా భారత దేశం.
ఇదే నా భారత దేశం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
आर.एस. 'प्रीतम'
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
दीवार
दीवार
अखिलेश 'अखिल'
छल.....
छल.....
sushil sarna
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गज़रा
गज़रा
Alok Saxena
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
rubichetanshukla 781
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
जगदीश शर्मा सहज
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" सूत्र "
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सब बढ़िया
सब बढ़िया
Dr. Mahesh Kumawat
कोई भी इतना व्यस्त नहीं होता कि उसके पास वह सब करने के लिए प
कोई भी इतना व्यस्त नहीं होता कि उसके पास वह सब करने के लिए प
पूर्वार्थ
गमछा जरूरी हs, जब गर्द होला
गमछा जरूरी हs, जब गर्द होला
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
■ सीधी बात...
■ सीधी बात...
*Author प्रणय प्रभात*
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
Loading...