Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
May 16, 2022 · 1 min read

बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।

1: सच्चाई का साथ निभाना
अच्छा करना ,अच्छा सोचना
प्रेम की धारा मे डूब कर,
सबके लिए गहरा प्रेम बहना,
यही बुद्ध का पैगाम है ।
जिसे खुद समझना है
और सबको समझाना है।

2: युद्ध का हो विराम ,
सब जगह फैले शांति का पैगाम।
खुशियाँ चारो तरफ बिखरे,
सत्य का सबको हो ज्ञान ,
हर मन में प्रेम का हो वास
बुद्ध पूर्णिमा यही कहता है,
सबका जीवन हो खास।

सुख शांति के राह पर
सब चलते रहे,
सदा प्रभु को ध्यान कर
अपने और सबके जीवन में
खुशियाँ बिखेरते रहे,
कहती है बुद्ध की वाणी
सबके दिलों मे सदा
इंसानित बने रहे।

~अनामिका

3 Likes · 4 Comments · 69 Views
You may also like:
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
तू है तेरे अन्दर।
Taj Mohammad
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
महफिल अफसूर्दा है।
Taj Mohammad
✍️बस इतनी सी ख्वाईश✍️
"अशांत" शेखर
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
Dr Meenu Poonia
कभी अलविदा न कहेना....
Dr. Alpa H. Amin
मज़ाक बन के रह गए हैं।
Taj Mohammad
जिंदगी के अनमोल मोती
AMRESH KUMAR VERMA
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
ये जिंदगी ना हंस रही है।
Taj Mohammad
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
✍️मनस्ताप✍️
"अशांत" शेखर
दिल्लगी दिल से होती है।
Taj Mohammad
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
हादसा
श्याम सिंह बिष्ट
'पिता' संग बांटो बेहद प्यार....
Dr. Alpa H. Amin
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरी हस्ती
Anamika Singh
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुमनामी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शब्दों से परे
Mahendra Rai
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
बदनाम दिल बेचारा है
Taj Mohammad
वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
Loading...