Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

बुद्ध को है नमन

नमन है बुद्ध को,
बुद्ध को है नमन।

चुन्द का भोज कर,
प्रेम से ग्रहण कर,
विषाक्त आहार वह,
शुद्धता से गये निगल।

नमन है बुद्ध को,
बुद्ध को है नमन।

मुक्त है किया,
था वह अंत भोजन,
बढ़ चलें बुद्ध भगवान,
कुशीनगर की डगर।

नमन है बुद्ध को,
बुद्ध को है नमन।

अप्प दीप बनो,
शोक न अब करो,
त्याग कुंठित मन,
प्रकाश हृदय में भरो।

नमन है बुद्ध को,
बुद्ध को है नमन।

धम्म है सब जगह,
संघ है साथ खड़ा,
प्रशस्त करो मार्ग स्वतः,
बुद्ध है हृदय में बसा ।

अंत है सत्य यहाँ,
अंतिम भोजन है किया,
महापरिनिर्वाण है यहाँ,
कुशीनारा पावन नगर।

नमन है बुद्ध को,
बुद्ध को है नमन।

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

2 Likes · 1 Comment · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
■ इस ज़माने में...
■ इस ज़माने में...
*प्रणय प्रभात*
वह कौन सा नगर है ?
वह कौन सा नगर है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Srishty Bansal
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
परिवार
परिवार
डॉ० रोहित कौशिक
समझौते की कुछ सूरत देखो
समझौते की कुछ सूरत देखो
sushil yadav
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
3476🌷 *पूर्णिका* 🌷
3476🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
इंतज़ार
इंतज़ार
Dipak Kumar "Girja"
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
काव्य की आत्मा और औचित्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
VINOD CHAUHAN
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
Anil Mishra Prahari
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
Surinder blackpen
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
*सांच को आंच नहीं*
*सांच को आंच नहीं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
सरहदों को तोड़कर उस पार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
बह्र - 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
Neelam Sharma
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
नूरफातिमा खातून नूरी
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
Shweta Soni
तितली रानी
तितली रानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मुक्तक _ दिखावे को ....
मुक्तक _ दिखावे को ....
Neelofar Khan
ज़िंदगी में अपना पराया
ज़िंदगी में अपना पराया
नेताम आर सी
निर्लोभी राम(कुंडलिया)
निर्लोभी राम(कुंडलिया)
Ravi Prakash
आज एक अरसे बाद मेने किया हौसला है,
आज एक अरसे बाद मेने किया हौसला है,
Raazzz Kumar (Reyansh)
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
होलिका दहन
होलिका दहन
Bodhisatva kastooriya
Loading...