Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2023 · 1 min read

*बुढ़ापे में जवानी हो 【मुक्तक】*

बुढ़ापे में जवानी हो 【मुक्तक】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
बुढ़ापा आए लेकिन हाथ – पैरों में रवानी हो
रिटायर हो गए तो क्या, जमा कुछ मालपानी हो
सही हों कान आँखें दाँत, दिल मस्तिष्क गुर्दे भी
बुढ़ापा क्या करेगा यदि, बुढ़ापे में जवानी हो
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
सुनो, मैं जा रही हूं
सुनो, मैं जा रही हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
वसुधा में होगी जब हरियाली।
वसुधा में होगी जब हरियाली।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ईश्वर के प्रतिरूप
ईश्वर के प्रतिरूप
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं माँ हूँ
मैं माँ हूँ
Arti Bhadauria
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
Dr Tabassum Jahan
■ बेशर्म सियासत
■ बेशर्म सियासत
*Author प्रणय प्रभात*
Writing Challenge- जानवर (Animal)
Writing Challenge- जानवर (Animal)
Sahityapedia
💐प्रेम कौतुक-409💐
💐प्रेम कौतुक-409💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
याद हो बस तुझे
याद हो बस तुझे
Dr fauzia Naseem shad
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
SURYAA
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
Keshav kishor Kumar
समारंभ
समारंभ
Utkarsh Dubey “Kokil”
मुक्तक - जिन्दगी
मुक्तक - जिन्दगी
sushil sarna
उनकी यादें
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
Manisha Manjari
When life  serves you with surprises your planning sits at b
When life serves you with surprises your planning sits at b
Nupur Pathak
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
“दो अपना तुम साथ मुझे”
“दो अपना तुम साथ मुझे”
DrLakshman Jha Parimal
संगति
संगति
Buddha Prakash
* जन्मभूमि का धाम *
* जन्मभूमि का धाम *
surenderpal vaidya
2950.*पूर्णिका*
2950.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
विवेकानंद जी के जन्मदिन पर
विवेकानंद जी के जन्मदिन पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
Ravi Prakash
अटल-अवलोकन
अटल-अवलोकन
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
प्रश्न - दीपक नीलपदम्
प्रश्न - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
पूर्वार्थ
Chalo khud se ye wada karte hai,
Chalo khud se ye wada karte hai,
Sakshi Tripathi
Loading...